आर्थिक संबल:शहरी क्रेडिट कार्ड योजना से स्ट्रीट वेंडर व बेरोजगारों को मिलेगा आर्थिक संबल

टोंक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अनुसूचित जाति, जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग के नगर पालिका, नगर परिषद की सीमा में आने वाले शहरी क्षेत्र के आशार्थियों को स्वरोजगार लगाने एवं रोजमर्रा की जरूरतों में वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराने के लिए इंदिरा गांधी शहरी क्रेडिट कार्ड योजना 2021 प्रारम्भ की गई है।अनुजा निगम के परियोजना प्रबन्धक नवल खान ने बताया कि योजना के तहत स्ट्रीट वेंडर्स जैसे कुम्हार, खाती, मोची, मिस्त्री, दर्जी, धोबी, पेंटर, प्लम्बर, इलेक्ट्रीशियन का काम करने वाले एवं बेरोजगार युवाओं को आर्थिक संबल प्रदान करने के लिए बीना किसी गारंटी ब्याज रहित एक वर्ष के लिए अधिकतम 50 हजार रुपए का ऋण दिया जाएगा।

ऋण राशि का पुनर्भुगतान 12 माह में करना होगा।परियोजना प्रबन्धक ने बताया कि योजना का लाभ राजस्थान के स्थाई निवासी को मिलेगा। आवेदक की आयु 18 से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए। आवेदक की मासिक आय 15 हजार या इससे कम एवं परिवार की मासिक आय 50 हजार रुपए से कम होनी चाहिए। इसके अतिरिक्त वह सभी छोटे व्यापारी जिनको शहरी निकाय द्वारा प्रमाण पत्र या पहचान पत्र प्रदान किया गया है। वह भी इस योजना के पात्र है।

खबरें और भी हैं...