पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रैंकिंग:प्रदेश की रैंकिग में टाेंक 7वें और जयपुर पहले पायदान पर

टोंक8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकारी स्कूलों में सुविधाएं, नामांकन बढ़ोतरी व अन्य बिंदुओं को लेकर स्कूल शिक्षा परिषद ने जारी की रैकिंग

सरकारी स्कूलों में नामांकन बढ़ोतरी व अन्य सुविधाएं दिए जाने के डाटा अपलोड करने के मामले में स्कूल शिक्षा परिषद की ओर से जारी की गई जून माह की रैंकिंग में भी टोंक जिला सातवें स्थान पर रहा है। प्रतापगढ़ को अंतिम 33वां स्थान मिला है। जयपुर प्रथम व चूरू दूसरे पायदान पर रहे है। उल्लेखनीय है कि शिक्षा विभाग की ओर से स्कूलों में दी जाने वाली सुविधाएं व प्रगति के डाटा प्रत्येक माह शाला दर्पण पोर्टल पर अपलोड किए जाने के निर्देश है। इसके बाद प्रदेश स्तर पर स्कूल शिक्षा परिषद की ओर से प्रत्येक जिले की रैंकिंग जारी की जाती है।

माह जून में टोंक जिला सातवें व अजमेर संभाग में पहले स्थान पर रहा है। कोटा,धोलपुर व प्रतापगढ़ को अंतिम तीन स्थानों पर रहने पर चेतावनी दी गई है कि वे इसे प्राथमिकता देते हुए सघन मॉनिटरिंग करते हुए रैंकिंग में सुधार करने के प्रयास करें। इसको लेकर संयुक्त रूप से सम्बन्धित अधिकारियों के साथ बैठक कर कार्य योजना तैयार करें तथा अगलेे माह में अपेक्षित प्रगति लाएं।

पोर्टल पर अपलोड करनी होती है सूचनाएं : सूचनाएं ऑनलाइन करने के लिए प्रारम्भिक विद्यालयों के लिए शाला दर्शन व माध्यमिक स्तरीय विद्यालयों के लिए शाला दर्पण पोर्टल बनाए गए है। इनमें विद्यालयों की श्रेणी, नामांकन की स्थिति, रिकार्ड, वैकल्पिक विषय, संकाय, बेसिक प्रोफाइल, कार्मिकों की संख्या, विद्यालयों की सुविधा, अक्षय पेटिका की स्थिति, कार्य संग्रहण, साइकिल वितरण समेत ऐसे में 44 बिंदुओं के आधार की गई प्रदेश स्तर पर रैंकिंग की गई है। ये सूचनाएं शाला दर्पण में अपलोड की जानी होती है। जबकि मिडडेमील, नामांकन, पुस्तकों की संख्या समेत अन्य सूचनाएं शाला दर्शन में अपलोड की जाती है।

खबरें और भी हैं...