पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Tonk
  • The Government Will Give Coaching Fees To Ten Thousand Students Of The State Including Tonk For The Preparation Of Professional Courses And Competitive Exams.

कोचिंग करने के इच्छुक युवाओं को सरकार की सौगात:टोंक समेत प्रदेश के दस हजार छात्र-छात्राओं को प्रोफेशनल कोर्स और प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए सरकार देगी कोचिंग फीस

टोंक19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, टोंक। - Dainik Bhaskar
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, टोंक।

पैसों के अभाव में विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए कोचिंग नहीं कर पाने वाले होनहार युवाओं को अब किसी का मुंह ताकना नहीं पड़ेगा। इसके लिए सरकार ने खजाना खोला है। सत्र 2021-22 में राज्य सरकार टोंक समेत प्रदेश के दस हजार ऐसे होनहार गरीब, मध्यम वर्ग के पात्र छात्र-छात्राओं को आरपीएससी, यूपीएससी समेत अन्य प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए कोचिंग फीस वहन करेगी। इसके आदेश वित्त विभाग जयपुर के विशिष्ट शासन सचिव नरेश कुमार ठकराल ने जारी किए हैं।

ज्ञात रहे कि प्रदेश में हर साल विभिन्न प्रोफेशनल कोर्स एवं प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए टोंक समेत प्रदेश में लाखों युवक-युवतियां कोचिंग करते हैं, लेकिन कई ऐसे गरीब और मध्यम वर्गीय परिवार के होनहार बच्चे हैं जो पैसों के भाव में चाह कर भी कोचिंग नहीं कर पाते हैं।

राज्य सरकार ने ऐसे बच्चों को नौकरी के लिए होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी उत्कृष्ट ढंग से कराने एवं समान अवसर देने का निर्णय किया है। इसके लिए जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग तथा अल्पसंख्यक मामलात विभाग मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना के माध्यम से कोचिंग की फीस वहन वहन करेंगे। यह फीस चार माह से लेकर दो साल तक के लिए है।

इस वर्ग के युवाओं को मिलेगा लाभ

सरकार की इस महत्वकांक्षी योजना का लाभ का एससी, एसटी, ओबीसी, एमबीसी, अल्पसंख्यक, ईडब्ल्यूएस वर्ग के उन छात्र-छात्राओं को मिलेगा जिनके परिवार की वार्षिक आय रुपए 800000 प्रति वर्ष से कम हो।

किस परीक्षा की तैयारी के लिए कितने बच्चों को मिलेगा लाभ

सरकार की ओर से जारी योजना आदेश के अनुसार सिविल सेवा परीक्षा के लिए 200, आरएएस या अधीनस्थ सेवा संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा के लिए 500, सब इंस्पेक्टर व पूर्व में 36 ग्रेड पे तथा वर्तमान में पे मैट्रिक्स पर लेवल-10 एवं ऊपर की परीक्षाओं के लिए 800, रीट परीक्षा के लिए 1500, पटवारी कनिष्ठ सहायक के लिए पूर्व की ग्रेड पे 2400 तथा वर्तमान पे लेवल 5 से ऊपर तथा पूर्व की ग्रेड पे 3600 एवं पे लेवल 10 से कम की अन्य परीक्षाओं के लिए 1200, कांस्टेबल परीक्षा के लिए 800, इंजीनियरिंग, मेडिकल प्रवेश परीक्षा के लिए 4000, क्लेट परीक्षा के लिए 1000 बच्चों को कोचिंग की फीस सरकार देगी।

किस परीक्षा की तैयारी की कोचिंग के लिए कितनी देगी फीस

सिविल सेवा परीक्षा के तैयारी की कोचिंग के लिए सरकार प्रति छात्र या छात्रा पर प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान को एक साल के लिए रुपए 75000 व अन्य संस्थाओं के माध्यम से कोचिंग करने पर रुपए 50000 देगी।

इसी तरह आरएएस या अधीनस्थ सेवा संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए प्रतिष्ठित संस्थान के माध्यम से कोचिंग करने पर रुपए 50000 व अन्य संस्थानों के माध्यम से कोचिंग करने को एक साल के रुपए 40000, सब इंस्पेक्टर व पूर्व में 36 ग्रेड पे तथा वर्तमान में पे मैट्रिक्स में पर लेवल-10 एवं ऊपर की परीक्षाओं की तैयारी के लिए छह माह कोचिंग करने पर रुपए 20000, रीट की चार माह कोचिंग करने पर रुपए 15000, पटवारी कनिष्ठ सहायक के लिए, पूर्व की ग्रेड पे 2400 तथा वर्तमान पे लेवल 5 से ऊपर तथा पूर्व की ग्रेड पे 3600 एवं पे लेवल 10 से कम की अन्य परीक्षाओं की तैयारी के लिए चार माह कोचिंग करने य रुपए 10000, कांस्टेबल परीक्षा की तैयारी के लिए चार माह कोचिंग करने पर दस हजार रूपए, इंजीनियरिंग, मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए प्रतिष्ठित संस्थानों के माध्यम से दो साल तक कोचिंग करने पर रुपए 70000 व अन्य संस्थाओं के माध्यम से कोचिंग करने पर रुपए 55000 दो साल के दिए जाएंगे। वहीं क्लेट परीक्षा के लिए प्रतिष्ठित संस्थानों से एक साल कोचिंग करने 40 हजार रूपए व अन्य संस्थानों के माध्यम से कोचिंग करने पर रुपए 25000 दिए जाएंगे।

पात्र छात्र-छात्राओं की न्यूनतम योग्यता

सिविल सेवा परीक्षा की कोचिंग करने के लिए न्यूनतम योग्यता स्नातक या स्नातक के अंतिम 2 वर्षों में अध्ययनरत एवं कक्षा 12वीं में 70% अंक होने चाहिए। इसी तरह आरएएस या अधीनस्थ सेवा संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा करने के लिए न्यूनतम योग्यता स्नातक या स्नातक के अंतिम 2 वर्षों में अध्ययनरत एवं कक्षा 12वीं में 60% अंक होने चाहिए।

सब इंस्पेक्टर व पूर्व में 36 ग्रेड पे तथा वर्तमान में पे मैट्रिक्स में पर लेवल-10 एवं ऊपर की परीक्षा की कोचिंग करने के लिए न्यूनतम योग्यता स्नातक या स्नातक के अंतिम 2 वर्षों में अध्ययनरत एवं कक्षा 12वीं में 50% अंक होने चाहिए।

रीट परीक्षा की कोचिंग करने के लिए बी एड या एसटीसी व कक्षा 12 में 50% अंक जरूरी है। पटवारी कनिष्ठ सहायक के लिए, पूर्व की ग्रेड पे 2400 तथा वर्तमान पे लेवल 5 से ऊपर तथा पूर्व की ग्रेड पे 3600 एवं पे लेवल 10 से कम की अन्य परीक्षाओं की कोचिंग करने के लिए स्नातक में अध्यनरत या 12वीं तथा आर एस सी आई टी अथवा कंप्यूटर कोर्स या ओ लेवल या उच्च स्तरीय कंप्यूटर सर्टिफिकेट या डिप्लोमा एवं कक्षा 12वीं में 50% होनी चाहिए। कांस्टेबल परीक्षा की कोचिंग करने के लिए कक्षा 10 में 50% अंक, इंजीनियरिंग,मेडिकल प्रवेश परीक्षा की कोचिंग करने के लिए कक्षा 10 में 70% व क्लेट परीक्षा की कोचिंग करने के लिए कक्षा 10 में 50% अंक होना जरूरी है।

वित्त विभाग से आए हैं आदेश

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उपनिदेशक नवल खान ने बताया कि वित्त विभाग के विशिष्ट शासन सचिव नरेश कुमार ठकराल के इस तरह के आदेश आ चुके हैं। जिले में लाभांवित होने वाले छात्र-छात्राओं की कितनी सीटें हैं, इन सबकी कुछ डिटेल्स को लेकर गाइडलाइन आने के बाद आगे की इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।