• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Tonk
  • The Two Child Abusers Ran Away After Widening The Mesh Of The Juvenile Home, They Were Not Found Till The Evening Of The Second Day, These Residents Of Kota And Sawai Madhopur

किशोर गृह से भागे दो बाल अपचारी:किशोर गृह की जाली को चौड़ी कर भाग गए दो बाल अपचारी, दूसरे दिन शाम तक नहीं मिले, ये कोटा और सवाईमाधोपुर के रहने वाले

टोंक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

डाइट रोड़ स्थित बाल सम्प्रेषण व किशोर गृह से बुधवार देर शाम दो बाल अपचारी हॉल की छत पर लगे लोहे की जाली चौड़ी कर फरार हो गए। सूचना के बाद पहुंचे सदर थाना पुलिस ने मौका मुआयना किया। मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर चिन्मयी गोपाल व पुलिस अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर संबंधित अधिकारियों से जानकारी ली। किशोर गृह के अधिकारियों ने इस संबंध में सदर थाने पर रिपोर्ट दी हैं। इसपर प्रकरण दर्ज कर पुलिस अनुसंधान में जुटी हैं। सदर थानाधिकारी दशरथ सिंह ने बताया कि बुधवार रात 9 बजे बाद सूचना मिली थी कि डाइट रोड स्थित राजकीय सम्प्रेषण गृह व किशोर गृह में निवासित दो बाल अपचारी लोहे का जंगले को चौड़ा कर फरार हो गए। देर रात करीब 9 बजे इसका पता चला तो कल्याण विभाग के परिवीक्षा अधिकारी विमलेश शर्मा ने इसकी रिपोर्ट थाने में दी है।इस पर मौके पर पहुंचकर घटनाक्रम का जायजा लिया।

मामले में प्रकरण कर दर्ज दोनों की तलाश के लिए कोटा व सवाई माधोपुर जिले के पुलिस टीम भेजी गई हैं। कल्याण विभाग के परिवीक्षा अधिकारी विमलेश शर्मा ने बताया कि कोटा व सवाई माधोपुर के रहने वाले बाल अपचारियों में से एक को डेढ़ साल पहले और एक को कुछ माह पूर्व ही टोंक बाल सम्प्रेषण गृह में शिफ्ट किया गया था। बुधवार रात को ये दोनों बाल अपचारी छत के बीच लगी लोहे की बड़ी जाली की नेट को चौड़ा कर पलायन कर गए। वही दूसरी ओर गुरुवार को कलेक्टर चिन्यमी गाेपाल सहित अन्य अधिकारियों ने भी बाल सम्प्रेषण गृह पहुंचकर जानकारी ली।

सदर थानाधिकारी दशरथ सिंह ने बताया कि बाल सम्प्रेषण गृह व किशोर गृह में निवासित दो बाल अपचारियों ने शातिराना अंदाज में हॉल की छत पर लगे लोहे का जंगले की मोटी जाली को भी चोड़ा कर भाग छूटे। अपराध करते समय दोनों नाबालिग थेे। लेकिन बुधवार को फरार होने के दौरान दोनों बालिग हो चुके हैं। एक की उम्र 19 और दूसरे की 21 हैं। इसलिए दोनों के खिलाफ प्रकरण कर लिया गया हैं।थोडी देर के कमरों से निकालते हैं बाहरपरिवीक्षा अधिकारी विमलेश शर्मा ने बताया कि गृह बाहर से पूरी तरह से बंद रहता हैं और अधिकतर समय में बाल अपचारियों को कमरों को अंदर ही रखा जाता हैं। लेकिन कुछ समय उन्हें कमरों से बाहर हॉल में टहलने के निकाला जाता हैं।

खबरें और भी हैं...