पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Tonk
  • The Work Of The Stadium Costing Two Crores Was Started Two And A Half Years Ago, The Contractor Had Left In Six Months, Now The Contract Was Renewed

खेल स्टेडियम का काम फिर से शुरू:दो करोड़ की लागत के स्टेडियम का कार्य ढाई साल पहले हुआ था शुरू, छह माह में ही छोड़कर चला गया था ठेकेदार, अब नए सिरे से हुआ ठेका

टोंक13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आवा में खेल स्टेडियम में काम शुरू हो गया है। - Dainik Bhaskar
आवा में खेल स्टेडियम में काम शुरू हो गया है।

दूनी तहसील के आवां कस्बे में दो करोड़ रुपयों की लागत से बनने वाले राष्ट्रीय स्तर के खेल स्टेडियम के पूरा होने की उम्मीद बंध गई है। इसका गत दिनों नए सिरे से टेंडर प्रक्रिया अपना कर दस दिन पहले ठेकेदार ने काम भी शुरू करवा दिया है।

ग्रामीण क्षेत्र की खेल प्रतिभाओं को तलाशने और तराशने के लिए सरकार की पे एंड प्ले योजनांतर्गत आवां में अत्याधुनिक एवं राष्ट्रीय स्तर का खेल स्टेडियम बनाने की स्वीकृती दी थी। इसके लिए दो करोड़ रुपए खर्च होने थे। इसके लिए अगस्त 2018 में दो करोड रुपए की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृतियां जारी की थीं। साथ ही स्टेडियम में आधारभूत सुविधाओं के लिए एक करोड़ के नए प्रस्ताव भिजवाए जाने थे।

इस स्टेडियम में क्रिकेट फुटबॉल हॉकी कबड्डी इत्यादि खेलों के लिए अत्याधुनिक सुविधा युक्त व हरियाली युक्त मैदान तैयार करवाए जाने थे। बैडमिंटन बास्केटबॉल के सिंथेटिक कोर्ट बनाकर जिले में इस प्रकार की पहली सुविधा विकसित की जानी थी।

क्रिकेट के अभ्यास के लिए 4 पिच तैयार करवाए जाने थे। परिसर के चारों ओर सुरक्षा दीवार व दो पवेलियन बनाए जाने प्रस्तावित थे। सीढ़ियां और ट्रैक बनाने के साथ-साथ बिजली पानी के पर्याप्त इंतजाम करना भी स्वीकृति में शामिल था।

इसका काम ढाई साल पहले संबन्धित ठेकेदार ने शुरू भी किया। करीब 50 फीसदी काम हो भी गया। इसी बीच ठेकेदार सरकार से पेमेंट टाइम से नहीं मिलने की कहकर बीच में ही छोड़ कर चला गया। इसको लेकर भास्कर ने समय समय पर खबरे प्रकाशित कीं। आखिरकार सरकार ने इसकी शुद की और शेष बचे कार्य के लिए टेंडर जारी किए। उसके बाद नए ठेकेदार ने गत दिनों से अधूरे पड़े स्टेडियम निर्माण का कार्य दोबारा शुरू किया गया है।

शराबियों का शरणस्थली बन गया था अधुरा पड़ा स्टेडियम

दो साल से स्टेडियम का काम बंद होने से उसमे शाम ढलते ही यह स्टेडियम शराबियों और समाज कंटकों की शरणस्थली बन जाता था। यहां पड़ा लोहा आदि सामान लोग चुरा ले गए ।

ग्रामीण प्रतिभा को निखरने का मिलेगा मौका

स्टेडियम के निर्माण का कार्य फिर से शुरू होने से क्षेत्र के खिलाड़ियों ने अपनी प्रतिभा को निखारने का मौका मिलेगा। करोड़ों की लागत से बनने वाले इस खेल स्टेडियम में क्रिकेट, फुटबॉल, वॉलीबॉल और हॉकी के खिलाड़ियों का भविष्य संवरेगा।

खबरें और भी हैं...