पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इस बार नहीं हो पाएगी सिंचाई:बिचपड़ी बांध में नहीं हुई पानी की आवक, रबी की फसल की नहीं हो पाएगी सिंचाई

टोंकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बाबूलाल पोसवाल इस बार क्षेत्र में मानसून की मेहरबानी कम रहने से क्षेत्र में स्थित प्राकृतिक जल स्रोतों में पानी की कमी रह गई है जिससे रबी की फसल की बुवाई के बाद सिंचाई नहीं हो पाएगी। क्षेत्र के गांव बिचपड़ी में स्थित ग्राम पंचायत का बांध आधा खाली रह गया है। सेदरिया सरपंच कानाराम गुर्जर ने बताया कि गांव बिचपड़ी के बांध से करीब 200 हेक्टेयर में सिंचाई होती है। बांध की भराव क्षमता 10 फीट है परंतु वर्षा की कमी के चलते इस बार बांध में केवल 5 फीट ही पानी है। इसमें भी निर्धारित डेड स्टॉक को कम करते हैं तो बांध में नाम मात्र का ही पानी रह जाता है। ऐसे में बांध क्षेत्र में 200 हेक्टेयर भूमि में बोई हुई रबी की फसल को सिंचाई की आवश्यकता होने पर पूरी तरह सिंचाई नहीं हो पाएगी जिससे किसानों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा। ग्रामीणों ने बताया कि गत वर्ष मानसून की अच्छी वर्षा होने के कारण बांध पूरी क्षमता के अनुसार भर गया था जिससे एक ओर फसलों को सिंचाई में सुविधा रही वहीं दूसरी ओर जानवरों को पीने के लिए पूरे वर्ष पानी भी उपलब्ध रहा। परंतु इस बार वर्षा कब होने से गर्मी के मौसम में जानवरों के लिए पीने के पानी की समस्या भी उत्पन्न होगी।बांध से निकलती है तीन नहरे -मिली जानकारी के अनुसार बिचपडी बांध में कच्ची तीन नहरे बनी हुई है। कच्ची नहरो के माध्यम से फसलो को पानी देते थे जिससे जो ,गेहू, सरसों की फसले अच्छी होती थी। परन्तु इस बार बिचपडी बांध में पानी कम होने के कारण फसलों को पानी नहीं मिलेगा।बांध की गत वर्षचली थी चादरगत वर्ष अच्छी बरसात होने से बांध लबालब हो गया था जिससे कई दिनो तक चादर चली थी। बांध के आसपास के गांवो के कुओं में भी पानी रिचार्ज हो गया था। सरपंच कानाराम गुर्जर ने बताया कि इस बार बांध में पानी की आवक कम होने के कारण नहरे चलना सम्भव नहीं है। बांध में कम पानी से गत वर्ष से इस वर्ष में पैदावार कम होगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें