पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

गंभीर लापरवाही - आशा सहयोगिनी झुलसी:देवली में कीटनाशक दवा से दो आशा सहयोगिनी झुलसी

टोंक10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कलेक्टर के निर्देश पर अस्पताल पहुंचकर गठित टीम ने की मामले की जांच
  • 3 दिन तक खामियों को छिपाता रहा चिकित्सा विभाग

देवली शहर में दो आशा सहयोगिनी को मच्छरों के प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए दी गई कीटनाशक दवा भारी पड़ गई। इस दवा से दोनों के झुलसने का गंभीर मामला सामने आया है। शनिवार को इससे चिकित्सा विभाग में ही नहीं बल्कि महिला एवं बाल विकास परियोजना में भी हड़कंप मच गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए शनिवार को जिला कलेक्टर के निर्देश पर अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी एसएस अग्रवाल के नेतृत्व में चार सदस्यों की टीम ने ट्रॉमा चिकित्सालय पहुंच कर जांच में पीड़ितों पीड़िताओं एवं कार्मिकों के बयान दर्ज किए हैं। यह जांच रिपोर्ट कलेक्टर को प्रस्तुत की जाएगी। यह मामला 14 अक्टूबर का है। शहर के बाजार वार्ड नंबर 4 में आशा मंजू रानीवाल एवं वार्ड 18 में माया मीणा आशा सहयोगिनी के रूप में कार्यरत हंै। चिकित्सा विभाग ने इन कार्यरत आशाओं को नालियों में मच्छर मारने एवं कीटनाशक दवा दी थी। जैसे ही एमएलओ केमिकल की बोतल खोली तो बोतल से गैस निकली और पूरा कैमिकल उनके शरीर पर गिर गया। इस दवा को नालियों में छिड़कने के लिए प्लास्टिक की दो बोतलों में डालकर उपलब्ध करवाई। इस दौरान यह नहीं बताया कि इससें एसिड बनती है।

कैसे झुलसी दवा की बोतल खोलते ही गैस निकली और कैमिकल शरीर पर गिर गया

कैसे उपयोग करना है यह नहीं बताया

14 अक्टूबर को बोतल में बंद कीटनाशक की बोतल खोलने के दौरान निकली दवा इन दोनों आशा सहयोगिनियों के चेहरे, हाथ, पैर पर लगने से ऊपरी त्वचा करीब 15 फीसदी जल गई। इनको परिजन चिकित्सालय में लेकर लेकर गए। आरोप है कि इस दौरान चिकित्सा कर्मियों ने उनका उपचार करने से मना कर दिया। बताया कि उस कीटनाशक दवा को रोज काम लिया जाता है पर हमारे साथ तो ऐसा कभी नहीं हुआ। कोई और कारण हो सकता है जिससे झुलसी हो। चिकित्सा विभाग ने अपनी खामियों को 3 दिन तक छुपाए रखा। जब इस मामले का शनिवार को पता चला तो चिकित्सा विभाग ही नहीं महिला एवं बाल विकास परियोजना में भी हड़कंप मच गया। उधर मामला जिला कलेक्टर गौरव अग्रवाल तक पहुंच गया। जिसके चलते कलेक्टर ने टीम गठित कर जांच करने के निर्देश दिए। सीएमएचओ ने की टीम गठित कलेक्टर के निर्देश पर मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी ने टोंक से अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी एसएस शर्मा ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी केसी मित्तल, चिकित्सा प्रभारी डॉ जगदीश मीणा जिला समन्वयक देवेंद्र ने यहां अस्पताल पहुंच कर आशा सहयोगिनियों, चिकित्सालय स्टोर इंचार्ज आदि के बयान लिए हैं। वहीं कीटनाशक का नमूना भी जांच के लिए लिया गया है।

ऐसे खुला मामला: महिला बाल विकास परियोजना में कार्यरत वर्कर के ग्रुप में वायरल हुआ, हड़कंप मचाजानकारी के मुताबिक बता दें 2 दिन पूर्व बाल विकास परियोजना अधिकारी सत्येंद्र चौहान को इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने महिला पर्यवेक्षकों को पत्र लिखकर सावधानी बरतने के निदेश दिए। जो महिला बाल विकास परियोजना में कार्यरत वर्कर के ग्रुप में वायरल हो गया। इससे अन्य कार्मिको में हड़कंप मच गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- चल रहा कोई पुराना विवाद आज आपसी सूझबूझ से हल हो जाएगा। जिससे रिश्ते दोबारा मधुर हो जाएंगे। अपनी पिछली गलतियों से सीख लेकर वर्तमान को सुधारने हेतु मनन करें और अपनी योजनाओं को क्रियान्वित करें।...

और पढ़ें