पालना गृह में छोड़ा 7 महीने का बच्चा:सायरन बजने पर हॉस्पिटल स्टाफ ने उठाया, ICU में भर्ती

जैसलमेर3 महीने पहले
जवाहिर हॉस्पिटल के पालना गृह में 7 महीने का बच्चा मिला।

जैसलमेर के जवाहिर हॉस्पिटल में बने पालना गृह में एक नवजात मिला। बच्चे की आवाज सुनकर स्टाफ ने देखा और उसे उठाकर अंदर लेकर गए। डॉक्टरों ने बच्चे की जांच की। बच्चा 7 महीने का है और सांस लेने में तकलीफ हो रही है। बच्चे की कंडीशन देखकर शनिवार को जोधपुर रेफर किया जाएगा। फिलहाल एक केयर टेकर महिला को बच्चे की देखरेख में लगाया गया है।

सांस लेने में तकलीफ होने पर बच्चे को आईसीयू में रखा गया है। बच्चे की जांच करते डॉक्टर।
सांस लेने में तकलीफ होने पर बच्चे को आईसीयू में रखा गया है। बच्चे की जांच करते डॉक्टर।

डॉक्टर दिनेश जांगिड़ ने बताया कि शुक्रवार रात करीब 11 बजे कोई बच्चे को पालना गृह में छोड़ गया। पालना गृह का सायरन बजने पर स्टाफ ने बच्चे को संभाला। बच्चे की जांच में सांस की तकलीफ आने पर आईसीयू में रखा गया। पुलिस और बाल कल्याण समिति को भी सूचना दी गई। बाल कल्याण समिति के राजकीय शिशु गृह की मैनेजर करुणा केला समेत सोशल वर्कर और टीम ने बच्चे की सार-संभाल की।

जवाहिर अस्पताल स्थित पालना गृह
जवाहिर अस्पताल स्थित पालना गृह

पालना गृह में अब तक 8 बच्चे मिले
बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष अमीन खान ने बताया कि जवाहिर हॉस्पिटल के पालना गृह से समिति को अब तक 8 बच्चे मिले हैं। 6 बच्चों को गोद दिया गया वहीं 1 मासूम की इलाज के दौरान जोधपुर में मौत हो गई थी। एक बच्ची फिलहाल शिशु गृह में है और एक बच्चा शुक्रवार रात को मिला है। उन्होंने बताया कि बच्चे को शिशु गृह को सौंपा गया है। उन्होंने बताया कि सरकार की पालना गृह नामक योजना से मासूम को अब कोई मरने के लिए नहीं फेंकता है, उनकी पहचान भी छुपाई जाती है। इससे मासूम बच्चों को जिंदगी मिलती है। शिशु गृह में बेहतरीन देखभाल के साथ निसंतान दम्पति को गोद लेने के लिए बच्चे भी मिल जाते हैं।