मौसम अपडेट:जिले में औसत से 30% अधिक बारिश से क्षेत्र में छाई हरियाली, अब विचरण करने पहुंचे गोडावण

लाठी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लाठी. क्षेत्र में हुई अच्छी बारिश के बाद जंगलों में विचरण करते गोडावण। - Dainik Bhaskar
लाठी. क्षेत्र में हुई अच्छी बारिश के बाद जंगलों में विचरण करते गोडावण।

जैसलमेर पूरी तरह से मरुस्थलीय जिला है। तेज गर्मी व आंधी यहां की पहचान है। लेकिन पिछले दिनों मानसून की अच्छी बरसात के बाद यहां का वातारण पूरी तरह से बदला-बदला नजर आ रहा है। जैसलमेर में इन दिनों धरती ने हरियाली की चादर ओढ़ रखी है। जिससे चारों तरफ हरियाली ही हरियाली ही नजर आ रही है। वन्यजीवों के लिए यह वातावरण बेहद अनुकूल माना जाता है। ऐसे में इस हरियाली के वातावरण से वन्यजीव भी स्वच्छंद विचरण करते हुए नजर आ रहे है। जैसलमेर के लाठी क्षेत्र में आमतौर पर शर्मीले माने जाने वाले गोडावण के झुंड नजर आ रहे है। इसके अलावा हरिण सहित कई वन्य जीव भी खुलेआम विचरण करते हुए देखे जा सकते है। मरुस्थल में यह हरियाली आंखों को सुकून दे रही है।

अच्छी बारिश से पशुओं को मिल रही है हरी घास, वन्य जीवों के लिए पानी का संकट भी खत्म

वन्यजीव व पशु बाहुल्य लाठी क्षेत्र में लगातार कुछ दिनों से चल रही मानसून की अच्छी बारिश के बाद वन्य क्षेत्र में अखड़ जमीन पर हरियाली छाई हुई है। हरियाली के कारण वन्य जीवों को हरी घास चरने को मिल रही है। घास चरने के बाद तालाब-नाडी में भरा बरसाती पानी वन्य जीवों के लिए वरदान साबित हो रहा है। बारिश के बाद धौलिया गांव के पास स्थित जंगल में छाई हरियाली में इन दिनों राज्य पक्षी गोडावन के झुंड गायों के बीच आनंद ले रहे हैं तथा कीटों का भोजन कर रहे हैं। इस सीजन हुई अच्छी बरसात से पशुओं व वन्यजीवों के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो रही है। अच्छी बरसात के कारण एक तरफ पशुओं को चरने के लिए हरा चारा मिल रहा है।

वहीं हरियाली के वातावरण के बीच जगह-जगह सुलभ पानी उपलब्ध होने से वन्यजीवों को भी स्वच्छंद विचरण करते हुए देखा जा सकता है। जैसलमेर में इस साल मानसून की मेहरबानी से वन्यजीव इस हरियाली का भरपूर लुत्फ उठा रहे है। जैसलमेर में ऐसा कम ही मौका आता है जब स्वच्छंद विचरण करते हुए गोडावण आसानी से देखे जा सकते है। लेकिन इस बार ऐसा हो रहा है। एक साथ कई गोडावणों के झुंड इस वातावरण का लुत्फ उठाने के साथ ही मानों प्रकृति को धन्यवाद दे रहे हैं।

खबरें और भी हैं...