जैसलमेर में 31 सांडा के शव मिले:डेजर्ट नेशनल पार्क के पास स्पाइनी टेल्ड लिजार्ड का शिकार कर भागे शिकारी

जैसलमेरएक महीने पहले
जैसलमेर। 31 सांडा का शिकार करने के बाद फरार हुए शिकारी।

जैसलमेर के डेजर्ट नेशनल पार्क के पास 31 स्पाइनी टेल्ड लिजार्ड (सांडा) जीव का शिकार हुआ। वन्य जीव प्रेमियों ने शिकारियों को जब देखा तो वे गाड़ी लेकर भाग गए। वन्य जीव प्रेमियों ने वन विभाग को इसकी जानकारी दी। वन्य जीव प्रेमी राधेश्याम पेमानी ने बताया कि एक साथ 31 सांडा जीव का शिकार होने से वन्य जीव प्रेमी बहुत दुखी हैं। वन्य जीव प्रेमी वन विभाग की उदासीनता से भी काफी रोष में हैं। उनका कहना है कि इसी तरह अगर इन जीवों का शिकार होता रहेगा तो ये जीव एक दिन लुप्त हो जाएगा। कुछ दिन पहले भी 20 सांडा का शिकार करते 4 शिकारी पकड़े जा चुके हैं मगर अभी तक इनके शिकार की घटनाओं बंद नहीं हुई हैं।

डेजर्ट नेशनल पार्क के पास हमीरों की बस्ती में एक साथ 31 सांडा मृत मिले
डेजर्ट नेशनल पार्क के पास हमीरों की बस्ती में एक साथ 31 सांडा मृत मिले

31 सांडा का एक साथ शिकार

वन्य जीव प्रेमी राधेश्याम पेमानी ने बताया कि शुक्रवार दोपहर को वे जब डीएनपी एरिया (डेजर्ट नेशनल पार्क) के पास हमीरों की बस्ती से गुजर रहे थे तब वहां कुछ लोग इकट्ठे होकर कुछ काम कर रहे थे। हमको शक हुआ और हम जब उनके पास जाने लगे तब वे वहां से फरार हो गए। हमने उनको पकड़ने की कोशिश भी की मगर वे भागने में कामयाब हो गए। हमने मौके पर देखा तब वहां 31 सांडा मृत मिले और कुछ हथियार भी मिले। हमने वन विभाग को इसकी जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि वन विभाग की घोर लापरवाही से वन्य जीवों का खुलेआम शिकार हो रहा है। इस तरह से इस जिले से ये जीव लुप्त हो जाएंगे। जैसलमेर जिले के कई इलाकों में सांडा पाया जाता है। ये मासूम जीव लोगों की गलतफहमी का शिकार होकर हर साल हजारों की तादाद मे मारा जा रहा है। लोगों में भ्रम है कि सांडे के मांस से या उसकी चर्बी से बने तेल से मर्दाना कमजोरी दूर होती है। उन्होंने बताया कि जैसलमेर में कई जगह इसका शिकार होता है। शिकारी इस मासूम जीव के बिल में से इसको निकालकर इसकी कमर तोड़ देते हैं ताकि ये भाग नहीं सके। फिर वे इसका मांस और इसकी चर्बी से बने तेल को महंगे दामों में बेचते हैं। उन्होंने बताया कि इनके शिकार की घटनाएं लगातार बढ़ रहे हैं। उन्होंने शिकार की घटनाओं पर रोकथाम लगाने के लिए पुलिस और वन विभाग को मुस्तैद हो कर शिकारियों पर कार्रवाई करने की मांग की है।