अफेयर के चक्कर में पति की हत्या:दो दोस्तों के साथ मिलकर रची साजिश, गर्दन, रीढ़ पर लोहे के रॉड से हमला; पत्नी गिरफ्तार

जैसलमेर4 महीने पहले

इंटरनेशल बाइक राइडर की हत्या उसकी पत्नी ने ही कराई थी। पुलिस ने कर्नाटक से महिला को गिरफ्तार कर लिया। हत्या के पीछे लव ट्राएंगल और संपत्ति विवाद है। महिला का अन्य युवक से अफेयर चल रहा था और पति से उसका झगड़ा होता रहता था। पति को रास्ते से हटाने के लिए उसने दो दोस्तों की मदद से हत्या कराई। हत्या जैसलमेर में 4 साल पहले हुई थी।

SP भंवर सिंह नाथावत ने बताया कि 4 साल पहले 16 अगस्त 2018 को इंटरनेशनल बाइक राइडर असबाक मोन (34) की दो दोस्तों बेंगलुरु निवासी संजय कुमार व विश्वास एसडी ने गर्दन व रीढ़ की हड्‌डी पर लोहे के रॉड जैसे हथियार से हमलाकर हत्या कर दी थी। हत्या के बाद उसके शव को रेत के टीले के नीचे फेंक दिया था।

असबाक का फोन भी उसका दोस्त संजय अपने साथ ले गया था। पुलिस जांच में राइडर की पत्नी के भी हत्या में शामिल होने की बात सामने आई। मामले में उसकी पत्नी सुमेरा परवेज को 13 मई को गिरफ्तार किया गया। जैसलमेर लाकर कोर्ट में पेश कर 10 दिन के रिमांड पर लिया गया।

जैसलमेर पुलिस ने आरोपी महिला को कर्नाटक से गिरफ्तार कर 10 दिन के रिमांड पर लिया।
जैसलमेर पुलिस ने आरोपी महिला को कर्नाटक से गिरफ्तार कर 10 दिन के रिमांड पर लिया।

बार-बार ठिकाने बदल रही थी महिला
SP ने बताया कि पुलिस हत्या के बाद से आरोपी महिला और उसके दोस्तों का पीछा कर रही थी। करीब साल भर पहले हत्या में शामि संजय कुमार व विश्वास एसडी को गिरफ्तार कर लिया गया था। मगर मृतक की पत्नी बार-बार ठिकाने बदलकर मोबाइल नंबर भी चेंज कर लेती थी। साइबर सेल प्रभारी भीमराव और अन्य लोगों के लिए उसका नंबर ट्रेस कर पाना बहुत ही कठिन हो रहा था।

महिला भागने की फिराक में थी
आखिरकार महिला के कर्नाटक में होने का पता चला। जैसलमेर से कर्नाटक गई पुलिस की टीम ने महिला को उसके दोस्त के घर से पकड़ा। पुलिस ने फ्लैट में दबिश दी तो वह अपना सामान पैक कर दूसरी जगह भागने की फिराक में थी।

बाइक राइडर असबाक मोन के दोस्तों ने उसके शव को रेत में दबा दिया था।
बाइक राइडर असबाक मोन के दोस्तों ने उसके शव को रेत में दबा दिया था।

दोस्तों के साथ घूमने गया था
असबाक मोन कन्नूर केरल का रहने वाला था। कुछ सालों से बेंगलुरु के आरटी नगर में रह रहा था। अगस्त 2018 में इंडियन बाजा मोटर स्पोर्ट्स डकार चैलेंज रैली के दौरान वह पांच दोस्तों संजय, विश्वास, नीरज, शाकिब और संतोष के साथ जैसलमेर में रैली में हिस्सा लेने आया था। 15 अगस्त 2018 को शाहगढ़ बल्ज में राइडिंग ट्रैक को देखने के बाद असबाक और उसके दोस्त 16 अगस्त को राइडिंग के लिए निकले थे। सभी रास्ता भटक गए थे, लेकिन मोन के अलावा सभी लौट आए। 17 अगस्त को मोन का शव बरामद हुआ था। उसकी बाइक स्टैंड पर खड़ी थी और उस पर हेलमेट रखा था। जिस जगह शव मिला, वहां मोबाइल नेटवर्क नहीं मिलता।

​पुलिस ने पहले सामान्य मौत, बाद में माना मर्डर
राइडर की मौत की सूचना पर उसकी पत्नी और घरवाले जैसलमेर आए थे। पुलिस को उसकी पत्नी और दोस्तों ने डिहाइड्रेशन या प्यास मौत का कारण बताया था। प्रारंभिक जांच में मौत को सामान्य ही माना गया। मगर मृतक के भाई और उसकी मां ने हत्या की साजिश का आरोप लगाया था। वहीं पोस्टमाॅर्टम रिपोर्ट में भी गर्दन पर चोट लगना आया था। इस पर हत्या के एंगल से जांच शुरू की गई। मृतक की पत्नी सहित दो दोस्त शक के घेरे में आए थे।

पुलिस को राइडर की बाइक स्टैंड पर खड़ी और उस पर हेलमेट रखा हुआ मिला था।
पुलिस को राइडर की बाइक स्टैंड पर खड़ी और उस पर हेलमेट रखा हुआ मिला था।

पत्नी से होता था झगड़ा
जांच में सामने आया कि उसका पत्नी के साथ झगड़ा होता था। बेंगलुरु शिफ्ट होने से पहले वह दुबई में रहता था। असबाक की पत्नी का नीरज नाम के शख्स के साथ अफेयर था। संपत्ति के चलते भी असबाक का सुमेरा के साथ विवाद भी चल रहा था।