मैं किसी पार्टी से नहीं हूं सिर्फ समाजसेवक हूं: सैनी:रामनाथ धूणे में राष्ट्रीय फूले ब्रिगेड के संयोजक सैनी के स्वागत समारोह में उमड़े समाज के लोग

जैसलमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के रामनाथ धूणे में शनिवार की रात्रि में राष्ट्रीय फूले ब्रिगेड के राष्ट्रीय संयोजक सी.पी. सैनी का स्वागत सम्मान समारोह आयोजित किया गया। समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय संयोजक चन्द्रप्रकाश सैनी उपस्थित थे। विशिष्ट अतिथि के रूप में नीम का थाना के पी.जी. कॉलेज के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष विनोद सैनी भूढोली, समाजसेवी पवन कुमार सैनी, श्रवण सैनी, फलोदी तहसील अध्यक्ष सहीराम, पार्षद मांगीलाल गहलोत उपस्थित थे।

इससे पहले राष्ट्रीय संयोजक सी.पी. सैनी ने रामनाथ धूणे में पहुंचकर रामनाथ की समाधि व संत संतोकनाथ की प्रतिमा पर मत्था टेक कर अमन चैन की कामना की। इसके साथ ही समाज के लोगों द्वारा अतिथियों का साफा व माला पहनाकर स्वागत किया।

स्वागत सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय संयोजक सी.पी. सैनी ने कहा कि मैं किसी राजनैतिक पार्टी से नहीं हूं, मैं मात्र समाजसेवक हूं। उन्होंने कहा कि मैं समाज के लोगों को जागृत करने के लिए परमाणु नगरी पोकरण में आया हूं। उन्होंने कहा समाज आगे बढ़ेगा तो देश आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि आज भी समाज में शिक्षा को लेकर लोग जागरूक नहीं है। यदि शिक्षा के लेकर लोग जागरूक होते हैं तो निश्चित तौर पर समाज का उत्थान होगा।

अभी तक लोग समाज की ओर जागृत नहीं होंगे तो समाज पीछे रहेगा। सैनी वर्ल्ड इकॉनोमिक संस्थान के जिलाध्यक्ष हंसराज सोलंकी ने कहा कि समाज में भी एकता नहीं दिख रही है समाज को हमेशा एकता होनी चाहिए। इससे समाज हमेशा आगे बढ़ सके। उन्होंने कहा कि समाज युवाओं को समाज में शिक्षा जागृत करने के लिए हमेशा सहयोग करना चाहिए ताकि समाज शिक्षा की ओर आगे बढ़ सके। इसी प्रकार माली युवा ब्रिगेड के पूर्व अध्यक्ष जितेन्द्र सोलंकी ने कहा कि समाज को आगे बढ़ाने के लिए समाज को एक जुट होना बहुत ही जरूरी है।

समाज एकजुट नहीं होगा तो समाज आगे नहीं बढ़ सकता है। अवसर पर पंजाब नेशनल बैंक के उप शाखा प्रबंधक श्रवण कुमार, राजस्थान मरुधरा बैंक के पूर्व बैंक शाखा प्रबंधक शिवरतन सोलंकी, ग्राम विकास अधिकारी संजय पंवार भूमि शाखा बैंक प्रबंधक शांतिलाल माली, संत लिखमीदास सेवा संस्थान के सचिव नेमीचंद सोलंकी, कोषाध्यक्ष कमल भाटी, समाजसेवी अंबालाल परिहार, चनणाराम, भगवानाराम, भूराराम सोलंकी, अध्यापक घनश्याम, रामेश्वर सोलंकी, दमाराम माली, गणेशीलाल पंवार, सुरजमल, मोहन माली, पुखराज गहलोत, दिनेश भाटी, किशन निंबली, ओमप्रकाश, हंसराज सोलंकी, कैलाश पंवार, गोविंद सोलंकी, अखेराज, प्रेम गहलोत, दमाराम सहित कई लोग उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...