एक दिवसीय दौरे पर भीनमाल पहुंचे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री:शिंदे बोले- मारवाड़ियों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी

भीनमाल3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मंदिर में पूजा अर्चना करते शिंदे। - Dainik Bhaskar
मंदिर में पूजा अर्चना करते शिंदे।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे बुधवार को एक दिवसीय दौरे पर भीनमाल आए। वे नीलकंठ महादेव प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि राजस्थान और महाराष्ट्र का प्राचीन संबंध है। महाराष्ट्र के छत्रपति शिवाजी महाराज और राजपूताने के महाराणा प्रताप के आराध्य देव भगवान शिव थे। इन दोनों महापुरुष की वजह से भारत भूमि पर कोई दुश्मन देख भी नहीं सकता था। मंदिर और ऐसे धर्म स्थल सिर्फ मंदिर नहीं हैं बल्कि हमारे ऊर्जा स्थल हैं।

उन्होंने कहा कि जब मैं यहां पहुंचा तो लोग दोनों तरफ पुष्पवर्षा कर रहे थे, ऐसा लग रहा था कि जैसे मैं महाराष्ट्र में ही जा रहा हूं। ऐसे देखा जाए तो भगवान नीलकंठ महादेव का मंदिर प्राचीन धरोहर है इसलिए तो इस भव्य मंदिर का निर्माण हुआ है। इस तरह से किए गए धार्मिक कार्य से लोग प्रेरणा लेंगे। सीएम ने कहा कि बहुत सारे राजस्थानी मारवाड़ी महाराष्ट्र में रहकर व्यापार कर रहे हैं। उनकी सुरक्षा करना हमारी जिम्मेदारी है। इस तरह से मारवाड़ी भाईचारे के साथ रहते हंै। इससे पूर्व सीएम हेलीकॉप्टर से उदयपुर के जरिए भीनमाल हेलीपैड पर पहुंचे, जहां पर आयोजक परिवार की ओर से स्वागत किया गया।

100 विधवा माताओं की बेटियों का शिक्षा का खर्च उठाएगा परिवार
प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के दौरान आयोजक राव परिवार ने घोषणा करते हुए कहा कि वहा 1 वर्ष तक 100 विधवा माताओं की बेटियों की शिक्षा का खर्चा उठाएगा। इसको लेकर मुख्यमंत्री शिंदे और निर्मलानंद महाराज के हाथों 5 बेटियों के शिक्षा खर्च को राशि भेंट कराई गई।

मंदिर में आधे घंटे पूजा अर्चना की
सीएम शिंदे खारी रोड, माघ चौक, पिपली चौक होते हुए वारहश्याम मंदिर पहुंचे। यहां पूजा अर्चना के बाद मंदिर की जानकारी ली। मुख्य बाजार होते हुए वह नीलकंठ महादेव मंदिर में पहुंचे जहां पर करीब आधे घंटे तक विशेष पूजा-अर्चना की। यज्ञशाला में भगवान को भोग लगाया। इधर संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी एवं केंद्रीय संस्कृति एवं संसदीय कार्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने भी प्रतिष्ठा महोत्सव में पहुंचकर पूजा अर्चना की।

खबरें और भी हैं...