नरेगा संविदा कर्मियों की मांग:17 वर्षों से विभिन्न पदों पर कार्यरत संविदा कार्मिकों का अनिश्चितकालीन अवकाश, मानदेय में 10% वृद्धि की मांग

भीनमालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भीनमाल की स्थानीय पंचायत समिति क्षेत्राधिकार में कार्यरत नरेगा संविदा कर्मियों ने सोमवार को कार्य का बहिष्कार करते हुए पंचायत समिति के बाहर अनिश्चितकालीन अवकाश शुरू किया है। नरेगा कार्मिक संघ के इकबाल खान ने बताया कि महात्मा गांधी नरेगा योजना अंतर्गत संविदा पर कार्मिक पिछले 17 वर्षों से विभिन्न पदों पर कार्यरत हैं।

उन्होंने कहा कि अनवरत सरकार की योजनाओं को ग्रामीणों तक पहुंचा कर लाभान्वित कर रहे हैं, लेकिन संविदा कार्मिकों द्वारा सरकार को कई आंदोलनों ज्ञापन के माध्यम से अवगत करवाया जा चुका है। उसके बावजूद नियमित नहीं किया जा रहा है। उन्होंने योजना के अंतर्गत रोजगार सहायक, कंप्यूटर ऑपरेटर, डाटा एंट्री ऑपरेटर, लेखा सहायक, तकनीकी सहायक सहित कई कार्मिक संविदा पदों पर कार्यरत कार्मिकों के संख्या अनुपात में नियमित पदों का सृजन कर वित्तीय स्वीकृति जारी कर वर्तमान में कार्यरत कार्मिकों को समायोजन करने की मांग की।

साथ ही समय रहते मांग पूरी नहीं करने पर जयपुर में महापड़ाव डालने की चेतावनी दी है। इसके साथ ही महात्मा गांधी नरेगा कार्मिक संघ ने मानदेय में 10% वार्षिक वृद्धि करने, राजपत्रित अवकाश प्रदान करने, मकान किराया भत्ता देने, सेवा अवधि के दौरान स्थानांतरण के प्रावधान करने की मांग की। इस अवसर पर नरेगा कार्मिक संघ के जाफ़र खान, गोपाल सिंह, महादेवा राम, साहिल खान, जगाराम राणा, घेवरचंद, रमेश कुमार, इकबाल खान, जबर सिंह सहित कई नरेगा संविदा कार्मिक मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...