दिव्यांग सर्टिफिकेट नहीं बनने से युवक परेशान:सरकारी योजनाओं का नहीं मिल रहा लाभ, SDM से लगाई गुहार

जालोरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
युवक दिव्यांग प्राण पत्र के लिए एक साल से अफसरों के चक्कर लगा रहा है। इस मामले में एसडीएम ने बीसीएमओ और बीडीओ से रिपोर्ट मांगी है। - Dainik Bhaskar
युवक दिव्यांग प्राण पत्र के लिए एक साल से अफसरों के चक्कर लगा रहा है। इस मामले में एसडीएम ने बीसीएमओ और बीडीओ से रिपोर्ट मांगी है।

जालोर की विशाला ग्राम पंचायत में एक दिव्यांग का सर्टिफिकेट नहीं बनने से वह सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं ले पा रहा है। दिव्यांग का कहना है कि वह पिछले एक साल से सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगा रहा है लेकिन उसकी सुनवाई नहीं हो रही है। ऐसे में अब इस परिवार ने एसडीएम से एक बार फिर गुहार लगाई है।

विशाला गांव के समेलाराम चौधरी का कहना है कि उसका बेटा जामताराम(19) दोनों पैरो से दिव्यांग है। वह ना तो चल सकता है और ना बोी बोल सकता है। उसकी देखरेख के लिए परिवार के किसी भी एक सदस्य को उसके पास रहना पड़ता है। समेलाराम ने बताया कि उसके बेटे के दिव्यांग प्रमाण पत्र के लिए आधार कार्ड होना जरूरी था। उसने आधार कार्ड बनवा लिया लेकिन उसका दिव्यांग प्रमाण पत्र आज तक नहीं बना है।

समेलाराम ने बताया कि वह अपने बेटे के साथ कई बार अफसरों के यहां चक्कर लगा चुका है लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। समेलाराम ने बताया कि उसका परिवार गरीब होने के बावजूद भी बीपीएल, खाद्य सुरक्षा, प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं ले पा रहा है। ऐसे में वह आज भी सरकारी योजनाओं से वंचित है।

वहीं इस मामले में सायला उपखंड अधिकारी सूरजभान विश्नोई का कहना है कि मामला उनकी जानकारी में आया है। इस मामले में जल्द ही बीसीएमओ और बीडीओ से रिपोर्ट मंगाकर इस परिवार को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने की कोशिश की जाएगी।