मनरेगा अधिकारी-कर्मचारी 10वें दिन भी हड़ताल पर:भवानी मंडी सहित सम्पूर्ण जिले भर में 1 लाख 80 हजार मनरेगा मजदूरों का काम बंद

भवानी मंडी8 दिन पहले

मनरेगा कार्मिक संघ के प्रदेश समिति के आह्वान पर झालावाड़ जिले की आठों पंचायत समितियों में कार्यालय के सामने मनरेगा कर्मचारी महासंघ एवं रोजगार सहायक संघ द्वारा धरना प्रदर्शन करते हुए हड़ताल जारी है। आज हड़ताल का 10वां दिन है।

जिला उपाध्यक्ष कृपाल सिंह ने 6 सूत्री मांगों एवं सरकार के द्वारा जल्दी नरेगा कार्मिकों नियमित नहीं करने पर आन्दोलन उग्र करने की चेतावनी दी। मनरेगा अधिकारी-कर्मचारी व पंचायतों के रोजगार सहायकों ने कामकाज बंद कर पंचायत समिति कार्यालय के परिसर पर अनिश्चितकालीन धरना पर बैठ गए हैं। उनके आंदोलन पर चले जाने से मनरेगा कार्य ठप पड़ गया।

कर्मचारियों के हड़ताल में जाने से जिले भर में 1 लाख 80 हजार मजदूरों का काम बंद हो गया है। इसी कड़ी में मनरेगा कर्मचारी महासंघ के बैनर तले पंचायत समिति भवानी मंडी में कार्यरत मनरेगा अधिकारी-कर्मचारियों ने दफ्तरों में कामकाज बंद कर व रोजगार सहायकों ने पंचायतों में काम बंद कर चार मई से अपने-अपने मुख्यालयों में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठ गए हैं।

मनरेगा कर्मचारी महासंघ के अनुसार वर्तमान सरकार के द्वारा चुनावी घोषणा पत्र में संविदा कार्मिकों के साथ किए गए वादों के अनुसार संविदा कार्मिकों के हित में ठोस एवं स्पष्ट कदम उठाए। ताकि वर्षों से अल्प मानदेय पर कार्यरत कार्मिकों को संविदा की बेडियों से मुक्ति मिल सके। राज्य सरकार जब तक इन कर्मचारियों की मांग पूरी नहीं करते हैं, तब तक अनिश्चितकालीन आंदोलन जारी रहेगा।

चिंतन शिविर में जाकर अपनी मांगों को रखेंगे

संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि सरकार ने यदि उनकी मांगें नहीं मानी, तो नरेगा संविदा का प्रदेश संगठन उदयपुर जाकर कार्मिक चिंतन शिविर में कांग्रेस के राष्ट्रीय नेताओं के समक्ष अपना विरोध प्रदर्शन कर अपनी मांगें रखेंगे।

इन्होंने किया धरना प्रदर्शन

ब्लॉक अध्यक्ष नारायण सिंह, एमएस मैनेजर परगेश भटनागर, मेहरबान सिंह, दुर्गाशंकर, तूफान गुर्जर वसीम, कालूराम आदि कार्मिकों ने भाग लिया।

खबरें और भी हैं...