अपनों के इंतजार में नन्ही आंखें:दो दिन पहले पैदा हुए बच्चे को अस्पताल में छोड़कर चले गए परिजन; कारण पूछा तो बोले- बीमार थे, नहीं आ पाए

झालरापाटन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजकीय हीरा कुंवर बा जनाना अस्पताल में दो दिन पहले पैदा हुए एक नवजात को उसके परिजन अस्पताल में छोड़कर चले गए। अस्पताल प्रशासन की ओर से 48 घंटे तक नवजात के मां-बाप का इंतजार किया गया लेकिन जब वे नहीं पहुंचे तो इसकी सूचना बाल कल्याण समिति को दी गई।

बाल कल्याण समिति ने परिजनों से साधा संपर्क

बाल कल्याण समिति सदस्यों ने अस्पताल पहुंचकर नवजात के परिजनों के बारे में जानकारी हासिल की। जनाना अस्पताल अधीक्षक कार्यालय से मिली सूचना के मुताबिक बच्चे उपचार मेडिकल आईसीयू में चल रहा है। इसको गंभीरता से लेते हुए बाल कल्याण समिति अध्यक्ष शिवराज सिंह हाडा, सदस्य राजेश खंगारोत, पूर्णिमा सिकरवार, गजेंद्र सेन शनिवार दोपहर को अस्पताल पहुंचे और नवजात के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली और अस्पताल से ही नवजात के परिजनों से संपर्क किया, जिस पर उन्होंने बताया कि वह नवजात को लेने के लिए शनिवार शाम तक पहुंच जाएंगे। परिजनों ने न आने का कारण खराब स्वास्थ्य बताया। नवजात के परिजन राजस्थान से सटे राज्य मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले से हैं। खबर लिखने तक नवजात के परिजन अस्पताल नहीं पहुंचे थे।

अस्पताल प्रशासन से चर्चा करते बाल कल्याण समिति के सदस्य
अस्पताल प्रशासन से चर्चा करते बाल कल्याण समिति के सदस्य

अध्यक्ष ने अस्पताल अधीक्षक को दिए निर्देश

बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष ने अस्पताल अधीक्षक निर्देश देते हुए कहा कि जैसे ही परिजन नवजात को लेने के लिए आएं, तो इसकी सूचना उन्हें दें और नवजात के स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखें। यदि परिजन शनिवार शाम तक नहीं आते हैं तो नवजात को शिशु ग्रह को सुपुर्द करने के आदेश जारी किए जाएंगे। बाल कल्याण समिति ने जनाना अस्पताल में खराब पड़े कूलर और पंखे समेत अन्य उपकरणों को शीघ्र ठीक कराने के भी निर्देश दिए।

खबरें और भी हैं...