रिटायर्ड फौजी से 35 लाख की लूट:5 लुटेरों ने गन पॉइंट पर की वारदात, बोला-26 साल जो कमाया, सब गया

चिड़ावा (झुंझुनूं)3 महीने पहले

झुंझुनूं के चिड़ावा में गुरुवार देर रात रिटायर्ड फौजी के घर हथियारबंद लुटेरों ने धावा बोल दिया। आरके मार्बल के पास गली में रिटायर्ड फौजी महेंद्र मेघवाल (45) का घर है। लुटेरे घर में घुसे और गन पॉइंट पर जेवर नकदी समेत 35 लाख की लूट को अंजाम देकर फरार हो गए। जाने से पहले फौजी को रस्सियों से बांध दिया। घटना देर रात करीब 1.45 बजे की बताई जा रही है। उस समय महेंद्र घर में अकेले थे।

गैलरी से जाली का गेट तोड़कर घुसे
चिड़ावा सीआई इंद्र प्रकाश ने बताया कि महेंद्र मेघवाल का मकान सूरजगढ़ रोड पर चिड़ावा बाइपास रोड से 50 मीटर अंदर है। पीड़ित का कहना है कि वह गुरुवार की रात मकान में अकेला था। रात 1.30 से 1.45 के बीच गैलरी के जाली के गेट को तोड़कर 5 बदमाश घर में घुस आए। सभी की उम्र 25 से 35 साल के बीच थी।

पीड़ित महेंद्र मेघवाल 2004 में सेना में हवलदार पद से रिटायर हुए थे। असम के तेजपुर में उनकी आखिरी पोस्टिंग थी। पांच साल पहले चिड़ावा बाइपास पर मकान बनाकर शिफ्ट हुए थे।उनका कहना है कि 26 साल नौकरी कर जो कमाया, सब चला गया।
पीड़ित महेंद्र मेघवाल 2004 में सेना में हवलदार पद से रिटायर हुए थे। असम के तेजपुर में उनकी आखिरी पोस्टिंग थी। पांच साल पहले चिड़ावा बाइपास पर मकान बनाकर शिफ्ट हुए थे।उनका कहना है कि 26 साल नौकरी कर जो कमाया, सब चला गया।

वे हिंदी, हरियाणवी-मारवाड़ी बोली से स्थानीय लग रहे थे। उन्होंने फौजी के मुंह पर टेप बांधी और मकान में खोजबीन शुरू की। अलमारियां खोलकर सोने-चांदी के जेवर और कैश ले गए। सूचना मिलते थाना टीम, उच्च अधिकारी व जांच टीमें मौके पर पहुंच गई हैं। वारदात का जल्द खुलासा कर देंगे।

पीड़ित रिटायर्ड फौजी ने कहा कि रात को करीब पौने 2 बजे का टाइम था। 5 बदमाश घर में घुस आए। मैं जाली का गेट लगाकर सोया था। 3 बदमाशों ने दबोच लिया। 2 कमरे में घुस गए। काला कपड़ा मेरे मुंह पर बांध दिया। उनमें से 2 के हाथ में पिस्टल थी। एक ने मेरी कनपटी पर पिस्टल लगा दी। इसके बाद 20-25 मिनट में ही सारा सामान निकाल लिया। दोनों बहुओं और पत्नी के जेवर थे।

घर में बिखरा पड़ा सामान और पीड़ित रिटायर्ड फौजी से घटना के बारे में जानकारी लेती पुलिस। पीड़ित का कहना है कि उसकी पत्नी अपने छोटे बेटे के पास अनूपगढ़ गई हुई थी। वह घर में अकेला था।
घर में बिखरा पड़ा सामान और पीड़ित रिटायर्ड फौजी से घटना के बारे में जानकारी लेती पुलिस। पीड़ित का कहना है कि उसकी पत्नी अपने छोटे बेटे के पास अनूपगढ़ गई हुई थी। वह घर में अकेला था।

26 साल की मेहनत ले गए

फौजी ने कहा कि सोने के चूड़ा, चेन, मंगलसूत्र, रखड़ी अंगूठियां, चांदी के गहने, पाजेब, करीब 15 हजार कैश सब ले गए। जाते वक्त एक ने कहा कि इसके पैर में गोली मार देते हैं। दूसरे ने उसे रोका, कहा कि बंधा हुआ है। गोली मारने की जरूरत नहीं है। इसके बाद वे चले गए। करीब 25 मिनट बाद जैसे-तैसे खुद को छुड़ाया। फौजी ने कहा कि दो-दो पैसा जोड़कर, कर्ज लेकर ये सब कमाया था।

पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगाले
पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगाले

अखबार तक खंगाल लिए

पीड़ित ने कहा कि उस समय कुछ समझ नहीं आया। हाथ पैर जकड़ दिए थे। पिटाई भी की, नाक से खून आ गया था। लुटेरों ने अखबार तक खंगालकर देखे। 26 साल नौकरी कर जो कमाया सब ले गए। पीड़ित फौजी महेंद्र मेघवाल ने बताया कि वे 2004 में हवलदार के पद से रिटायर हुए थे। लास्ट पोस्टिंग तेजपुर आसाम में थी। 5 साल से वे चिड़ावा के इस मकान में रह रहे हैं।

गैलरी में यह जाली का गेट तोड़कर बदमाश अंदर घुसे। घुसते ही 3 लुटेरों ने महेंद्र को दबोच लिया। बाकी 2 घर की तलाशी लेने लगे। महेंद्र को गन पॉइंट पर लिया और मुंह बांध दिया।
गैलरी में यह जाली का गेट तोड़कर बदमाश अंदर घुसे। घुसते ही 3 लुटेरों ने महेंद्र को दबोच लिया। बाकी 2 घर की तलाशी लेने लगे। महेंद्र को गन पॉइंट पर लिया और मुंह बांध दिया।

बाइकों की लाइट बंद कर निकले

जानकारी के मुताबिक महेंद्र ने खुद को रस्सी से आजाद कराया। फिर पड़ोसी राजेश कुमार डेला को लूट की वारदात की जानकारी दी। फिर सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पुलिस उपाधीक्षक सुरेश शर्मा, सीआई इंद्र प्रकाश यादव सहित पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंचा। घटनास्थल का जायजा लिया। साथ ही मोबाइल टीम व स्क्वायड डॉग टीम ने भी मौके से साक्ष्य जुटाए। पुलिस ने आसपास के सीसीटीवी खंगाले। एक सीसीटीवी में कुछ संदिग्ध युवक बाइकों पर नजर आ रहे हैं। संदिग्धों की बाइक की लाइट पहले जली हुई दिख रही है, फिर 2 बजे के करीब बाइकों की लाइट बंद है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

पीड़ित महेंद्र मेघवाल का कहना है कि 5 बदमाशों ने चंद मिनटों में अलमारियों को खोलकर सारा जेवर और 15 हजार कैश ले गए। उन्होंने अखबार तक खंगाले। वारदात के बाद घर में बिखरा पड़ा सामान।
पीड़ित महेंद्र मेघवाल का कहना है कि 5 बदमाशों ने चंद मिनटों में अलमारियों को खोलकर सारा जेवर और 15 हजार कैश ले गए। उन्होंने अखबार तक खंगाले। वारदात के बाद घर में बिखरा पड़ा सामान।

पीड़ित फौजी महेंद्र ने बताया कि उसके दो बेटे हैं। बड़ा बेटा प्रदीप नवलगढ़ में है। छोटा बेटा सुरेन्द्र अनूपगढ़ में डॉक्टर है। फौजी की पत्नी रेशमी देवी छोटे बेटे सुरेंद्र की तबियत खराब होने के कारण अनूपगढ़ गई हुई थी।