चिड़ावा में रचा जाएगा इतिहास:रविवार को 1400 घरों में एक साथ होगा यज्ञ, पूरे कस्बे में बांटी गई 111 किलो हवन सामग्री

चिड़ावा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

चिड़ावा कस्बे में रविवार को एक इतिहास रचा जाएगा। अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के आह्वान पर रविवार और सोमवार को देश के 25 लाख घरों में एक साथ गायत्री हवन करने का आह्वान किया गया था, लेकिन इस हवन के बारे में ज्यों ज्यों लोगों को जानकारी मिली। कई लोगों ने खुद इस आयोजन में हिस्सा बनने में दिलचस्पी दिखाई। जिसके चलते चिड़ावा कस्बे में जो 500 घरों में हवन का संकल्प लिया गया था। वो भी करीब करीब तीन गुना बढ गया है।

अब रविवार को सुबह 8 से 11 बजे के बीच चिड़ावा कस्बे में करीब 1400 घरों में हवन होगा। आयोजन समिति के प्रवक्ता संदीप हिम्मतरामका ने बताया कि चिड़ावा क्षेत्र में 111 किलो हवन सामग्री वितरित कर दी गई है। इसमें 111 किलो चीनी तथा 21 किलो घी परिजन अपने अपने स्तर पर मिलाकर हवन करेंगे। चिड़ावा में गायत्री परिवार की टोलियों ने के पांच टोलियां बनाकर हवन सामग्री बांटी गई, जिसमें रामनिवास सैनी, सत्यनारायण सैनी, गोपीराम सैनी, संदीप हिम्मतरामका, रमेश हिम्मतरामका, अशोक व्यास, अनिल शर्मा, होशियारसिंह राठौड़, जगदीशप्रसाद गुप्ता, महेंद्र बदनगढिया, रामदेव पारीक, सांवरमल टेलर, रणजीत सैन, चंद्रपालसिंह, गौतमलाल शर्मा, मातादीन सैनी, रघुवीर सैनी, सुरेश शर्मा, विनोद कुमार वर्मा, कृष्ण कुमार शर्मा, मातादीन सैनी, रघुवीर सैनी, सुरेश शर्मा, विनोद कुमार वर्मा, शंकरलाल वर्मा, कुसूम सूरजगढ़िया, पूनम शर्मा, सुनिता राव, शारदा सोनी, विद्याधर सोनी, सरवेश राठौड़, नमिता शर्मा, रेखा हिम्मतरामका आदि सभी गायत्री परिजनों ने हवन सामग्री बांटने में सहयोग दिया। साथ ही घर-घर जाकर प्रचार किया। संदीप हिम्मतरामका और विद्याधर सोनी ने बताया कि घर-घर यज्ञ होने से वातावरण की शुद्धिकरण होगा।

इस तरह करें अपने घर में हवन

हवन के लिए विधि गायत्री परिवार ने बताई गई है। परात में मिट्टी डालकर हवन वेदी या फिर हवन कुंड का निर्माण कर सकते है। जिसमें गोबर के कुंडारों को रखकर उसमें अग्नि प्रज्ज्वलित करके अपने ईष्ट आराध्य देव का संक्षिप्त पूजन करें। इसके बाद 24 गायत्री मंत्र और 5 महामृत्युंजय मंत्र से घी तथा विशेष औषधि लौंग, इलाइची, काली मिर्च, कपूर, गुगल और हवन सामग्री से आहुति अर्पण करें। इसके बाद में अपने ईष्ट देव की आरती कर लें।

संदीप हिम्मतरामका और विद्याधर सोनी ने बताया कि पहले जिले में 11 हजार घरों में यह हवन करने का लक्ष्य लिया गया था, लेकिन जिस तरह लोगों का उत्साह देखने को मिल रहा है। यह भी लगभग दोगुना हो जाएगा और 20 हजार घरों में रविवार-सोमवार को हवन होंगे। जिलेभर में अपने अपने क्षेत्र में गायत्री परिजन लोगों को जागरूक करने और हवन सामग्री बांटने में लगे हुए है।

खबरें और भी हैं...