आबादी क्षेत्र में आया पैंथर:ग्रामीणों में दहशत का माहौल, वन विभाग की टीम जुटी रेस्क्यू करने में

खेतड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिंघाना के पास पिछले दो दिन से एक पैंथर घूम रहा है, जिसको लेकर ग्रामीणों में भय का माहौल बना हुआ है। पैंथर के रेस्क्यू करने को लेकर वन विभाग की टीमें लगातार प्रयास कर रही हैं, लेकिन वन विभाग की टीम से अभी पैंथर पकड़ से काफी दूर है।

जानकारी के अनुसार गुरुवार देर रात को सिंघाना - नारनौल सड़क किनारे पर एक पैंथर देखा गया। इस दौरान वहां से गुजर रहे गाड़ी चालक ने पैंथर को सड़क किनारे खड़ा देखकर अपनी गाड़ी रोक ली तो वह पैंथर सड़क से खेतों की ओर भाग गया। ग्रामीणों ने बताया कि पिछले दो दिन से पैंथर सिंघाना के आसपास के क्षेत्र में घूम रहा है,जिसको लेकर वन विभाग को सूचित किया जा चुका है।

वन विभाग के रेंजर विजय कुमार फगेड़िया ने बताया कि ग्रामीणों की सूचना मिली है कि सिंघाना के आसपास के क्षेत्र में एक पैंथर घूम रहा है, जिसकी सूचना पर टीमें लगाई गई हैं। वन विभाग की टीम ने उस के पग मार्क के निशान के आधार पर सिंघाना, डूमोली, पचेरी कलां, भालोठ, कुहाड़वास तक के क्षेत्र मे सर्चिंग अभियान चलाया हुआ है, लेकिन अभी तक उसका कोई सुराग नहीं लग पाया है। उन्होंने बताया कि इस पैंथर के चिप नहीं लगी होने के कारण उसकी लोकेशन सही तरीके से ट्रेस नहीं हो पा रही है। पैंथर का जल्द ही रेस्क्यू कर वन क्षेत्र खेतड़ी बांसियाल रिर्जव कंजर्वेशन में छोड़ा जाएगा।

इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों से अपील करते हुए कहा कि यदि किसी भी व्यक्ति को पैंथर दिखाई दे तो वह तुरंत वन विभाग की टीम को सूचित करें, ताकि जल्द ही उसे पकड़कर वन क्षेत्र लाया जाए।

खेतड़ी-बांसियाल रिजर्व कंजर्वेशन को वन अभ्यारण बनाया जा रहा है। इसमें पैंथर का कुनबा करीब एक दर्जन से अधिक हो गया है। खेतड़ी-बांसियाल कंजर्वेशन में पूर्व में छोड़े गए पैंथरों के वन विभाग की ओर से चिप लगाई हुई है, जिसे समय-समय पर उनकी लोकेशन ट्रेस कर पता लगाया जा सकता है। रिजर्व कंजर्वेशन में अभी सुरक्षा के लिहाज से पुख्ता इंतजाम नहीं होने के कारण वन क्षेत्र में छोड़े गए पैंथर निकलकर आबादी क्षेत्र में आ जाते हैं।

खबरें और भी हैं...