• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jhunjhunu
  • Administration Came Into Action, Control Room Built In The District, Instructions For Survey In The District, Instructions For Immediate Action On Information

गायों में लम्पी डिजीज:झुंझुनूं प्रशासन ने बनाया कंट्रोल रूम, सर्वे के निर्देश, सूचना पर तुरंत होगी कार्रवाई

झुंझुनूं4 महीने पहले
गायों में फैल रही है लम्पी बीमारी।

गायों में फैल रही लम्पी स्किन डिजीज के लिए झुंझुनूं जिला प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है। जिला कलेक्टर ने जिले में कंट्रोल रूम बना दिया है। किसी भी पशु में रोग के लक्षण दिखने पर नजदीकी पशु चिकित्सालय या कंट्रोल रूम में सूचना देने के लिए कहा गया है।

कंट्रोल में रूम में 24 घंटे कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष उप निदेशक कार्यालय बहु-उद्देशीय पशु चिकित्सालय झुंझुनूं में स्थापित किया गया है। कंट्रोल रूप में फोन नम्बर 01592-232481 जारी किया गया है। पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक रामेश्वर सिंह ने बताया कि नियंत्रण कक्ष के प्रभारी अधिकारी डॉ. बंशीधर लगाया गया है। डॉ. बंशीधर के मोबाइल नम्बर पर भी सूचना दी जा सकती है। डॉ. बंशीधर के मोबाइल नम्बर 7878502302 हैं।

जिले के पशुपालकों और गोशालाओं का सर्वे शुरू
जिले में मवेशियों एवं अन्य पशुओं में लम्पी स्किन रोग के प्रकरण सामने आए हैं। जिले में रोग नियंत्रण में है। अभी जिले में बहुत कम करीब 300 पशुओं में इस रोग पुष्टि हुई है।

ये हैं इस रोग के लक्षण
गोवंश की त्वचा पर गोलाकार गांठदार संरचनाओं का उभरना देखा जाता है। यह गांठें सामान्य रूप से 2 से 5 सेंटीमीटर व्यास की होती है जो सिर, गर्दन एवं जननांगों के आसपास देखी जा सकती हैं। ये गांठें धीरे-धीरे बड़ी होने लगती हैं और आखिर घाव में परिवर्तित हो जाती हैं। गोवंश को तेज बुखार, आंख, नाक से लार का स्राव होने लगता है। कभी-कभी छाती व पेट के पास सूजन आ जाती है और दूध का अचानक कम हो जाना भी इसके लक्षण हैं।

मृत गोवंश का निस्तारण
गोशाला परिसर तथा क्षेत्र में रोग से प्रभावित होकर मृत गोवंश का समुचित निस्तारण किया जाना आवश्यक है। ताकि रोग का फैलाव रोका जा सके। संक्रामक रोग से मृत गोवंश एवं इससे संबंधित वस्तुओं को गांव के बाहर एवं किसी भी जल स्रोत से दूर रखें। लगभग 1.5 मीटर गहरे गड्ढे में चूने या नमक के साथ वैज्ञानिक विधि से दफनाया जा सकता है। मृत गोवंश के संपर्क में रही वस्तुओं एवं स्थान को फिनाइल या लाल दवा अथवा सोडियम हाइपोक्लोराइट आदि से कीटाणु रहित करें। रोग प्रकोप की स्थिति में स्थानीय प्रशासन एवं संबंधित विभागों का सहयोग लेकर उचित प्रबंधन सुनिश्चित करें।