डिस्कॉम का दोबारा गठन करने की मांग:कर्मचारी बोले: निगम का एकीकरण किया जाए, अब तक उद्देश्य पूरा नहीं

झुुंझुनूं4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कर्मचारियों ने मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन। - Dainik Bhaskar
कर्मचारियों ने मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन।

राजस्थान विद्युत तकनीकी कर्मचारी एसोसिएशन की ओर से विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन किया गया। विभिन्न मांगों को धरना दिया गया। कर्मचारियों ने मांग की है कि फिर से विद्युत विभाग का गठन किया जाए। सभी पंचों विद्युत निगमों का एकीकरण कर दिया जाए। जिस उद्देश्य से निगम बनाए गए थे, वो 20 साल में भी पूरे नहीं हुए है( अभी राजस्थान में 90 हजार करोड़ का घाटा। इसी तरह से मांग की गई है कि पुरानी पेंशन सहित विभिन्न मांगे रखी गई। धरने के बाद एक प्रतिनिधि मण्डल एसई को निगम के निदेशक के नाम पर ज्ञापन दिया गया। इस पहले निगम कार्यालय में प्रदर्शन किया गया। एक सभा का आयोजन भी किया गया। वक्ताओं ने सभा को सम्बोधित किया। पुरानी पेंशन सहित अन्य कई समस्याओं पर चर्चा की गई। कर्मचारी नेताओं ने कहा कि विद्युत निगमों में 1 अप्रैल 2004 एंव उसके पश्चात नियुक्त कर्मचारियों / अधिकारियों के लिए पुरानी पेंशन स्कीम लागू की जाए। बिजली कर्मचारियों/अधिकारियों के इंटर डिस्कॉम स्थानान्तरण नीति बनाई जाए। राजस्थान पांच निगमों का एकीकरण कर राजस्थान विद्युत विभाग का गठन किया जाए। 19 जुलाई 2000 को 20 वर्षों के लिए 5 विद्युत निगम बनाए गए थे। 600 करोड़ का घाटा कम करने के लिए ऐसा किया गया था। राज्य सरकार व केन्द्र सरकार द्वारा कई बार करोडों रुपयों का अनुदान दिए जाने के बाद निगम वर्तमान में 90 हजार करोड़ के घाटे में चल रहे है। साथ ही प्रशासनिक खर्चों में बेतहाशा वृद्धि हुई है। अब 20 साल पूरे हो चुके इसलिये उक्त तथ्यों के मद्देनजर पांचों के निगमों का वापस विद्युत विभाग का गठन करें। पांच निगमों का एकीकरण कर राजस्थान विद्युत विभाग का गठन किए जाने से प्रशासनिक खर्चों में कमी होगी और उपभोक्ताओं बिजली भी सस्ती मिलेगी। बिजली कर्मचारियों अधिकारियों के इन्टर डिस्कॉम स्थानान्तरण का स्थाई समाधान भी हो सकेगा।