तहसीलदार, गिरदावर व पटवारी धरने पर:झुंझुनूं जिले की तहसील में काम-काज ठप, पटवारी कसे गाली-गलौज मामले में चल रहे नाराज

झुंझुनूं4 महीने पहले
झुंझुनूं जिले के सभी तहसीलदार, गिरदावर व पटवारी धरने पर बैठे और कार्रवाई करने की मांग की।

जिले तहसीलदार, गिरदावर और पटवारी धरने पर है। पटवारी से गाली-गालौज करने वाले पर कार्रवाई की मांग की जा रही है। कार्रवाई नहीं होने से तहसीलदारों और पटवारियों में रोष है।

झुंझुनूं तहसील सहित जिले की सभी तहसील में कार्य का बहिष्कार किया गया। नारेबाजी कर आरोपी को गिरफ्तार करने की मांग की।

झुंझुनूं तहसीलदार बताया की आरोपी खुलेआम घूम रहा है। आरोपी की ओर लगातार धमकियां दी जा रही है। गाली-गलौज की गई है। लेकिन अब तक प्रशासन की ओर कार्रवाई नहीं की गई। जब तक आरोपी के खिलाफ कार्रवाई नही होगी तक तक धरना जारी रहेंगा।

कानूनगो संघ के अध्यक्ष राजेश अहलूवालिया ने बताया कि ऐसे राजस्व अधिकारियों व कर्मचारियों का काम करना मुश्किल हो जाएगा। उच्च अधिकारियों के निर्देश पर ही अतिक्रमण चिन्हित किया था, राज का कार्य करने पर एक सरकारी कर्मचारी कैसे गली गलौज कर रहा है, राज कार्य में बाधा डालने का मामला दर्ज होना चाहिए।

कलेक्टर ने दिए थे कार्रवाई के निर्देश
आरोपी के खिलाफ कार्रवाई को लेकर 15 जुलाई को पटवारियों ने जिला कलेक्टर से मुलाकात की थी। कलेक्टर ने एसडीएम को निर्देश कर कार्रवाई के आदेश दिए थें। लेकिन अब तक कार्रवाई नहीं होने से पटवारियों में नाराजगी है। पटवारियों ने कहा की जब तक आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा, धरना प्रदर्शन जारी रहेगा।

फोन पर निकाली थी गालियां
दरअसल, मलसीसर में कलेक्टर की जनसुनवाई कार्यक्रम में रास्ते के अतिक्रमण को लेकर शिकायत की गई थी। जिस पर जिला कलेक्टर ने संबंधित अधिकारी को सीमाज्ञान कर अतिक्रमण हटाने के आदेश दिए थें। पटवारी बीरबल ने मौके पर जाकर रास्ते का सीमाज्ञान किया था। जिसकी रिपोर्ट तहसील में पेश की। इसके बाद से सरकारी टीचर इशाक मोहम्मद ने पटवारी बीरबल को फोन कर पटवारी समेत कुछ प्रशासनिक अधिकारियों को गाली निकाली थी। जिसका 5 मिनट का एक ऑडियो भी वायरल हुआ था। ऑडियो में इशाक ने गंदी गालियां निकालते हुए जान से मारने की धमकी दी थी।