स्वच्छ भारत पुरस्कार प्रतियोगिता:स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार सबमिशन में झुंझुनूं अव्वल, उदावास स्कूल को मिले राज्य स्तरीय पुरस्कार में 25 हजार रुपए व प्रमाण पत्र

झुंझुनूं2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार मिशन में झुंझुनूं जिला अव्वल रहने पर राज्य स्तर पर सम्मानित हुआ है। वहीं राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय उदावास को भी राज्य स्तरीय पुरस्कार दिया गया है। स्वच्छ भारत पुरस्कार प्रतियोगिता के प्रभारी सहायक परियोजना समन्वयक राजेंद्र कपूरिया ने बताया कि राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद के आदेश पर राजकीय व निजी विद्यालय में स्वच्छता, शुद्ध पेयजल एवं स्वास्थ्यप्रद आदतों के विकास व कोविड व्यवहार आदि उद्देश्य के लिए स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। जिसमें विद्यालयों को ही ऑनलाइन आवेदन करना था। जिले के 2783 में से 2690 स्कूलों ने फाइनल सबमिशन किया।

स्कूलों की संख्या ज्यादा होने से झुंझुनूं जिला प्रदेश में अव्वल रहने पर पुरस्कृत हुआ है। स्कूल शिक्षा परिषद के निर्देश पर 38 विद्यालयों का जिला स्तरीय पुरस्कार के लिए चयन हुआ है। इनमें आठ विद्यालय ओवरऑल श्रेणी व 30 विद्यालय सब श्रेणी के हैं। जिनमें पानी, हाथ धुलाई, टॉयलेट्स, मेंटेनेंस, व्यवहारगत परिवर्तन व कोविड व्यवहार जैसी 6 सब केटेगरी थी। इन 38 में से 14 स्कूल के नाम स्टेट पुरस्कार के लिए भेजे गए। जिनमें 8 ओवरऑल व 6 सब केटेगरी के विद्यालय थे।

15 जिलों के 26 विद्यालयों में उदावास स्कूल शामिल
राउमावि उदावास को स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार दिया गया। प्रदेश के 33 जिलों में से मात्र 15 जिलों के 26 विद्यालयों का राज्य स्तरीय पुरस्कार के लिए चयन हुआ है। जिसमें से झुंझुनूं जिले के उदावास सीनियर सैकंडरी विद्यालय को कोविड-19 सब कैटेगरी में ये पुरस्कार प्राप्त हुआ है। अब राष्ट्रीय स्तर पुरस्कार के लिए स्कूलों का 15 सितंबर तक मूल्यांकन होगा। उदावास स्कूल को 25 हजार रुपए व प्रमाण-पत्र दिया गया। प्रधानाचार्य राकेश ढाका व समसा प्रतिनिधि दिनेश व मुकेश ने सम्मान प्राप्त किया। भारत सरकार ने भी वर्ष 2017 में विद्यालय को राज्य स्तरीय स्वच्छता पुरस्कार दिया था। सरपंच सुमन देवी व ग्रामीणों ने स्टाफ को बधाई दी है।

खबरें और भी हैं...