• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jhunjhunu
  • Thousands Of Children Had Applied In The District, Applications For Pre Matric Scholarship, Scholarship From Class 1 To 8 Were Canceled

नौनिहालों की छात्रवृत्ति के सपने टूटे:जिले में हजारों बच्चों ने किए थे आवेदन, प्री मेट्रिक छात्रवृत्ति, कक्षा 1 से 8 तक के छात्रवृत्ति के आवेदन रद्द

झुंझुनूं2 महीने पहले
नौनिहालों की छात्रवृत्ति के सपने टूटे

केंद्र सरकार के अल्पसंख्यक मंत्रालय की ओर से प्री मेट्रिक छात्रवृत्ति के किए गए आवदेनों को रद्द कर दिया गया है। इससे जिले में हजारों नौनिहालों का छात्रवृत्ति पाने का सपना टूट गया है। अल्पसंख्यक मंत्रालय ने कक्षा 1 से 8 तक के छात्रवृत्ति आवेदन रद्द कर दिए है। जिले में हजारों बच्चे थे, जिन्होंने छात्रवृत्ति के आवेदन किया था। इसके लिए अभिभावकों का काफी खर्चा भी हो गया। ऐसे में ऐन वक्त पर आवेदन रद्द होने से बच्चों के मायूसी हाथ लगी है।

बच्चों और अध्यापकों को कहना है कि जब मंत्रालय को छात्रवृत्ति नहीं देनी थी तो उन्हें बच्चों से आवेदन ही नहीं कराने थे। इसकी पूर्व सूचना देनी थी।

एनएसपी पोर्टल पर होता है आवेदन

अल्पसंख्यक मंत्रालय की ओर से पूरे देश में अल्पसंख्यक छात्रों सहित प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को अन्य योजनाओं में छात्रवृत्ति के आवेदन हर वर्ष भराए जाते हैं।

ऐसी ही एक प्री मेट्रिक छात्रवृत्ति योजना है, जो निजी एवं सरकारी विद्यालयों में कक्षा 1 से 10 तक के बच्चों के लिए है, जिसमें पूरे देश के अल्पसंख्यक श्रेणी में आने वाले बच्चे आवेदन करते हैं और उन्हे छात्रवृत्ति के रूप में प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है।

इस बार भी छात्रवृत्ति के आवेदन विभाग के एनएसपी पोर्टल पर कराए गए और लाखों की संख्या में छात्रों ने आवेदन भी किया। आवेदन की अंतिम तिथि 15 नवम्बर निर्धारित थी और 30 नवम्बर तक विद्यालय स्तर पर वेरिफिकेशन करना था और 15 दिसम्बर तक जिला और राज्य स्तर पर वेरिफिकेशन करने की तिथि तय थी। ऐसे में शनिवार को अल्पसंख्यक मंत्रालय द्वारा सभी विद्यालयों के कक्षा 1 से 8 तक के आवेदनों को स्थाई रूप से निरस्त कर दिया। ऐसे में नौनिहालों को निराशा हाथ लगी है। जिले में हजारों बच्चों का छात्रवृत्ति का सपना टूट गया है।

सैकड़ों रुपए खर्च

नौनिहालों ने आवेदन करने में सैकड़ों रुपए का खर्चा किया था। बच्चों द्वारा आवेदन के लिए आय प्रमाण पत्र, मूल निवास प्रमाण पत्र, अल्पसंख्यक प्रमाण पत्रों को बनवाने के अलावा बैंकों में खाता खुलवाया था, वहीं आवेदन के साथ सभी जरूरी दस्तावेजों की फोटो प्रति के साथ-साथ आवेदन करने के लिए 50 से 100 रुपए का खर्चा किया था। शनिवार को मंत्रालय द्वारा उनके आवेदन निरस्त कर देने से नौनिहालों को मायूसी हाथ लगी।