10 साल कैद की सजा:7 साल की मासूम को किडनैप कर की थी दरिंदगी की कोशिश, 61 दिन में सजा

झुुंझुनूं2 महीने पहले

सात साल की मासूम के अपहरण और दरिंदगी की कोशिश मामले में पॉक्सो कोर्ट ने अभियुक्त दस साल की कैद और दस हजार रुपए का अर्थ दण्ड की सजा सुनाई है। पॉस्को कोर्ट की जज ने चालान पेश करने के 61 दिन बाद ही फैसला सुना दिया है। यह घटना सिंघाना थाने के इलाके के डूमोली गांव में चार मार्च को घटित हुई थी। पुलिस कुछ घंटे बाद ही आरोपी रतनलाल को गिरफ्तार कर लिया था और नौ मार्च को चालान पेश कर दिया था। इसके बाद मामले में जल्दी सुनवाई करते हुए 61 दिन में फैसला सुना दिया गया।

मामले के अनुसार सात साल की मासूम बच्ची शादी में मामा के घर आई थी। यह घटना शाम चार मार्च की है। आरोपी पाटन के डाबला बिहार निवासी रतनलाल वहां बर्तन साफ करने आया था। बच्चों के साथ खेल रही मासूम को दुकान से टॉफी दिलाने के बहाने अपने साथ ले गया। गांव में दुकान से बच्ची को टॉफी दिलाने और फिर साथ लेकर दुष्कर्म की नियत से खेतों में ले गया। वहां खेल रहे बच्चों ने परिजनों को जानकारी दी। परिजनों ने पुलिस को सूचना दी।

सूचना पर पुलिस दल के साथ मौके पर पहुंचे तथा क्षेत्र में नाकाबंदी करवाई। पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से खेतों में खड़ी फसल व पहाड़ी क्षेत्र में बच्ची की तलाश शुरू की। पुलिस के मूवमेंट को देखकर आरोपी रतनलाल बच्ची को गांव से बाहर पचेरी रास्ते पर छोडकऱ फरार हो गया। पुलिस ने कुछ घंटों बाद बच्ची को दस्तयाब कर लिया था। इसके बाद चार मार्च की देर रात को सिंघाना थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई। पुलिस ने आरोपी को 24 घंटे में ही गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस ने चार दिन में पॉक्सो कोर्ट में चालान पेश कर दिया था। पीड़ित की ओर से पैरवी लोक अभियोजक एडवोकेट लोकेश सिंह शेखावत ने की।

खबरें और भी हैं...