बेरोजगार भत्ते के लिए इंटर्नशिप बनी परेशानी:झुंझुनूं में 12937  बेरोजगार रजिस्टर्ड, 3 साल में 68.35 करोड़ रुपए का पेमेंट किया

झुंझुनूं5 महीने पहले
बेरोजगार भत्ते के लिए इंटर्नशिप बेरोजगारों के लिए परेशानी बनी हुई है।

बेरोजगार भत्ते के नए नियम से युवाओं ने दूरी बनानी शुरू कर दी है। तीन-चार घंटे की इंटर्नशिप के बाद बेरोजगार को भत्ता दिया जाता है। प्रदेश सरकार के कार्यकाल में ही दो बार भत्ते के नियमों में बदलाव किया गया है।

ज्यादातर बेरोजगार नियमों से खुश नहीं हैं। सरकार ने इस साल नियम बदलकर इंटर्नशिप का प्रावधान और कर दिया। बेरोजगारों का कहना है कि इस साल सबसे ज्यादा पदों पर भर्तियां होनी हैं। ऐसे में वह सरकारी नौकरी की तैयारी करें या इंटर्नशिप के लिए सरकारी कार्यालयों में चक्कर काटें। झुंझुनूं में 12937 के लगभग बेरोजगार पंजीकृत हैं।

इंटर्नशिप से बनाने लगे दूरी
सरकार ने बेरोजगारी भत्ते की राशि में बढ़ोतरी कर भले ही बेरोजगारों को लुभाने की कोशिश की हो लेकिन, भत्ते के नए नियम बेरोजगारों के लिए परेशानी का सबब बन रहे। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवाओं ने अब इंटर्नशिप से दूरी बनाने की तैयारी कर ली है। बेरोजगारों ने इंटर्नशिप के नए नियमों में बदलाव नहीं करने पर आंदोलन का ऐलान भी किया है। सरकारी कार्यालयों में तीन महीने चार-चार घंटे इंटर्नशिप की बाध्यता नहीं थी लेकिन, अब इंटर्नशिप के बाद ही भत्ता दिया जा रहा है।

12937 बेरोजगारी भत्ते के लिए रजिस्टर्ड
बेरोजगार भत्ते के लिए इस साल झुंझुनूं मे 12937 बेरोजगारों ने आवेदन किया है, इनमे से 10772 बेरोजगारों को भत्ता मिल चुका है। इंटर्नशिप के कारण युवाओं को परेशानी उठानी पड रही है।

68.35 करोड़ का भत्ता दिया
सरकार की ओर से झुंझुनूं में तीन साल में 25195 बेरोजगारों को 68.35 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया। बेरोजगारों का कहना है कि प्रदेश में हर साल आठ लाख से अधिक बेरोजगार पंजीकृत होते हैं तो, फिर सभी को भत्ते का प्रावधान क्यों नहीं किया जा रहा है।