यूनिवर्सिटी में प्रदर्शन पर बैठे छात्र:आरोप- 27 हजार स्टूडेंट्स से बिना परीक्षा वसूला परीक्षा शुल्क, अब फीस बढ़ाने की तैयारी; रोष में छात्र

जोधपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदर्शन करने पहुंचे छात्र। - Dainik Bhaskar
प्रदर्शन करने पहुंचे छात्र।

जयनारायण यूनिवर्सिटी लॉकडाउन के चलते पिछले दो साल से बंद है। इसके बावजूद छात्रों से फीस स्ट्रक्चर में शामिल परीक्षा शुल्क, गेम्स, रीडिंग रुम, स्टूडेंट यूनियन और अन्य शुल्कों के नाम पर फीस वसूली गई। अब छात्रों की फीस को बढ़ाने की तैयारी चल रही है। ऐसे में छात्रों में रोष है। छात्र नेताओं का कहना है कि महामारी के कारण पहले ही आर्थिक स्थिति बिगड़ी हुई है। ऐसे में बढ़ी फीस और भारी पड़ेगी। इस दौरान छात्रों ने हेड ऑफिस के बाहर फीस नहीं बढ़ाने को लेकर प्रदर्शन किया। साथ ही हेड ऑफिस में चल रही बैठक के दौरान कक्ष में जमीन पर बैठ कर प्रदर्शन किया

छात्रों को कहना है कि अधिकांश स्टूडेंट पार्ट टाइम जॉब कर अपनी फीस जुटाते हैं। कोविड टाइम में जॉब भी चली गई। घरों की आर्थिक स्थिति बिगड़ी है। ऐसे में बढ़ी हुई फीस जमा करवाना भारी पड़ेगा। जहां पढ़ने वाले ज्यादातर छात्र गांव से आते हैं। ऐसे में कोविड काल में छूट की मांग की जा रही है।

JNVU छात्रसंघ के निवर्तमान अध्यक्ष रविन्द्रसिंह भाटी का कहना है कि 27 हजार छात्रों से पहले ही एकेडमिक फीस के दौरान, फीस स्ट्रक्चर में दिए अन्य शुल्क भी वसूला गया। जबकि कॉलेज दो साल से नहीं खुला। प्रत्येक स्टूडेंट से परीक्षा शुल्क के नाम पर 1200 से 1500 के करीब वसूला जाता है। परीक्षा नहीं हो एग्जामिनर की ड्यूटी नहीं, पेपर यूज नहीं हो रहे, कॉपी जांच नहीं हुई । ऐसे में विश्वविद्यालय के फंड में 20 करोड़ से अधिक का फंड इकट्‌ठा हुआ। भाटी ने बताया कि फीस को दस प्रतिशत बढ़ाया जा रहा है। हमारी मांग है कि अतिरिक्त वसूला गया शुल्क वापस दिया जाए।

फीस में दस प्रतिशत की बढ़त

छात्र नेता का कहना है कि मीटिंग में सेमेस्टर की दस प्रतिशत व बाकी कोर्स की पांच-पांच प्रतिशत राशि बढ़ाने के लिए विश्वविद्यालय की प्रशासनिक मीटिंग रखी गई। इस दौरान छात्र नेता ने छात्रों के साथ प्रदर्शन किया।

खबरें और भी हैं...