दैनिक भास्कर ने जारी किया था ऑनलाइन सर्वे:95.4% शिक्षकों ने कहा, दिवाली की छुट्टियां होनी ही चाहिए, शाम को विभाग की घोषणा-मिलेगा अवकाश

जोधपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिक्षा विभाग ने शाम को अवकाश निरस्‍त करने का ऑर्डर वापस लिया। - Dainik Bhaskar
शिक्षा विभाग ने शाम को अवकाश निरस्‍त करने का ऑर्डर वापस लिया।
  • दोपहर तक प्रदेश के करीब 22 हजार शिक्षकों ने हिस्सा लेकर रखी राय, शाम को शिक्षा विभाग ने ऑर्डर वापस लिया, प्रिंसिपल पाॅवर की दो छुट्टी व शैक्षिक सम्मेलन भी हो सकेंगे

शिक्षा विभाग द्वारा मध्यावधि अवकाश रद्द करने के खिलाफ दैनिक भास्कर की ओर से किए गए सर्वे में 22 हजार लोगों ने भाग लिया। इसमें से 73.9 प्रतिशत पुरुष शिक्षकों ने राय दी कि यह आदेश गलत है, जबकि 26.19 प्रतिशत महिला शिक्षकों का मानना है कि यह आदेश करके विभाग ने उनके साथ न्याय नहीं किया है।

हालांकि सर्वे के बाद बुधवार शाम को ही निदेशक माध्यमिक शिक्षा सौरभ स्वामी ने अपने आदेश को वापस लेते हुए 29 अक्टूबर से 7 नवंबर तक मध्यावधि अवकाश करने, मध्यावधि अवकाश से पहले और बाद में प्रिंसीपल पावर के दो अवकाश करने तथा कोरोना गाइडलाइन के अनुरूप शैक्षिक सम्मेलन करने का नया आदेश निकाला। शिक्षामंत्री ने इस आदेश की प्रति ट्वीट करते हुए जानकारी दी कि दीपावली अवकाश होगा और इसके लिए उचित आदेश जारी कर दिए गए हैं।

शिक्षक नेताओं ने आदेश वापस लेने पर जताई खुशी

शिक्षक नेता रूपाराम रलिया, रूपाराम खोजा, सुभाष विश्नोई, भंवरलाल काला, त्रिलोकराम नायल, शंभूसिंह मेड़तिया, भंवराराम जाखड़, बेबी नंदा, संतोकसिंह सिणली, इंद्रविक्रमसिंह चौहान, मनीष आचार्य, जसवंतसिंह भाटी, परसराम तिवाड़ी, राजेंद्र छंगाणी, मेहकराम विश्नोई, मांगीलाल बूड़िया, नवीन देवड़ा, प्रिंस व्यास, तुलसीराम सोनी, रतनसिंह, शारीरिक शिक्षक नेता जगदीश चौधरी, बक्साराम चौधरी, राजेंद्र परिहार, देवेंद्र सिंह चौहान ने सरकार द्वारा आदेश वापस लिए जाने पर खुशी जताई है।

खबरें और भी हैं...