कोरोना का अनलॉक्ड इफैक्ट / जून के आखिरी दिन एक और मौत, मृत्यु दर 0.62% बढ़कर 1.86 हुई, मई में थी 1.24%

Another death on the last day of June, death rate increased by 0.62% to 1.86, in May it was 1.24%
X
Another death on the last day of June, death rate increased by 0.62% to 1.86, in May it was 1.24%

  • 55 नए मरीज मिले, 48 डिस्चार्ज भी हुए, जून में गई 32 जानें

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 07:14 AM IST

जोधपुर. शहर में जून का आखिरी दिन भी जानलेवा ही रहा। एक दिन की राहत के बाद मंगलवार काे फिर एक 72 वर्षीय महिला की काेराेना ने जान ले ली, वहीं दो साल के बच्चे, एमडीएम की दो नर्स सहित 55 नए पॉजिटिव मरीज सामने आए। हालांकि 48 मरीजों को डिस्चार्ज भी किया गया।

हम अप्रैल और मई से जून माह की तुलना करें तो सर्वाधिक मरीज 1263 और 32 मौतें इसी माह हुई हैं। शहर में काेराेना से अब तक 51 मरीजाें की माैत हाे चुकी है। इसमें से अप्रैल में जहां सात माैत हुई थी, वहीं मई में 12 लाेगाें की जान गई थी।

तब शहर में कुल मृत्यु दर सिर्फ 1.24 प्रतिशत थी, लेकिन जून में अनलाॅक हाेते ही शहर में माैताें का सिलसिला बढ़ गया। जून में सबसे ज्यादा 1263 संक्रमित मरीज मिले, जिनमें से 32 की जान चली गई। जून माह की मृत्यु दर 2.53 प्रतिशत रही, जिसके चलते कुल मृत्यु दर 0.62 प्रतिशत बढ़कर 1.84 प्रतिशत पहुंच गई।

शहर में मंगलवार काे 55 मरीज मिले, जिसमें दाे साल का बच्चा, एमडीएम के रिकॉर्ड रूम में कार्यरत स्टाफ नर्स, ट्रोमा में कार्यरत एक नर्स भी शामिल है। शहर में सबसे ज्यादा छह मरीज प्रताप नगर से मिले। कुड़ी भगतासनी हाउसिंग बोर्ड से चार, भगत की कोठी से तीन, अरविंद नगर, नेहरू पार्क, सीएचबी 18 सेक्टर से तीन, घोड़ाें के चौक, सराफा बाजार व जूनी मंडी से दो-दो मरीज मिले।

आठ मील बर्ली, बोरी, भेरू बाग, पटेलवास जेडब्ल्यूआर, बलदेव नगर मसूरिया, मोहन जी की हवेली पावटा, 601 बी 10वीं बी रोड सरदारपुरा, रूपरजत कॉलोनी, श्रमिकपुरा मसूरिया, सेक्टर 11/400, सेक्टर 14/4, सीएचबी, सेक्टर 21/190 सीएचबी, रामदेव कॉलोनी चांदपोल, जूनी मंडी, जनता कॉलोनी, शिकारगढ़, बासनी फेज 2, भेरू विलास, कर्मा नगर, मालवीय नगर, मंडोर, कलाल कॉलोनी नागोरी गेट, कमला नेहरू नगर, 1 डी सीएचबी प्रथम पुलिया से एक-एक मरीज मिला। पांच मरीज पीपाड़ से सामने अाए हैं। साेमवार काे भी पीपाड़ से 6 मरीज मिले थे।

खांडाफलसा की वृद्धा ने दम ताेड़ा
सात दिन से एम्स में भर्ती खांडाफलसा निवासी शकुंतला देवी ने मंगलवार को आखिरी सांस ली। सांस लेने में परेशानी के साथ एक्यूट किडनी इंजरी के चलते इन्हें 23 जून काे एम्स में भर्ती किया गया था। एम्स में बाड़मेर निवासी बाबूलाल ने भी मंगलवार को दम ताेड़ दिया। वह 15 जून से खून की कमी, हाइपर टेंशन के चलते आईसीयू में भर्ती थे।
2,225 की जांच में 55 पॉजिटिव
मंगलवार को 2225 संदिग्धों की जांच में 55 पॉजिटिव मरीज सामने आए, जिसमें 24 महिलाएं और 31 पुरुष हैं। डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज में 1161 संदिग्धों की जांच में 31, डीएमआरसी में 685 संदिग्धों की जांच में 11 और एम्स में 379 संदिग्धों की जांच में 13 पॉजिटिव मरीज सामने आए।

  •  सुपर स्प्रेडर की 5 श्रेणी तय हर 15 दिन में कोरोना टेस्ट करवाना हाेगा

कोरोना को कंट्रोल करने के लिए प्रशासन ने चार श्रेणी के सुपर स्प्रेडर और क्रॉनिक डिजीज वाले लोगों को प्रत्येक 15 दिन में टेस्ट करवाना अनिवार्य कर दिया है। केंद्र सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से कोरोना वायरस की प्रभावी रोकथाम के लिए नई गाइडलाइन जारी की गई हैं।

इसके तहत सुपर स्प्रेडर श्रेणी के लोगों का हर पखवाड़े टेस्ट करवाना जरूरी है। इस आधार जिले के लिए कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने गाइडलाइन जारी की है। टेस्ट से मना करने, लापरवाही बरतने पर राजस्थान एपिडेमिक डिजीज एक्ट के तहत कार्रवाई होगी।

सुपर स्प्रेडर जिस संस्थान में कार्यरत है, उसे सीज भी किया जाएगा। इसके अलावा सर्वे व सैंपलिंग के दौरान चिह्नित संदिग्ध व्यक्ति या किसी पॉजिटिव के क्लोज संपर्क में आने वाले व्यक्ति का टेस्ट करवाना जरूरी है। इससे इनकार करने पर खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। 
1. औद्योगिक मजदूर व कामगार : फैक्ट्री में काम करने वाले, रोजाना हाजिरी पर काम करने वाले, प्रवासी श्रमिक, अस्थायी यात्रा वाले श्रमिक, होटल में कार्यरत वर्कर, सर्विस सेक्टर के वर्कर शामिल हैं। ये बड़े ग्रुप में होने के कारण इनसे संक्रमण फैलने की आशंका रहती है।

2. ड्राइवर : एंबुलेंस, बस, ऑटो, टैक्सी, कैब चालक शामिल हैं। ये दिन में कई लोगों के संपर्क में आते हैं। इसके साथ बस कंडक्टर, खलासी व सफाई करने वाला भी शामिल है। 
3बैंक, पोस्ट, कूरियर व टेलिकॉम अफसर : सरकारी व निजी बैंक, बड़ी व छोटी शाखाएं, पोस्ट ऑफिस, टेलिकॉम ऑफिस व कूरियर ऑफिस शामिल हैं।

4. शॉप : वेंडर्स, दुकानों पर काम करने वाले, किराणे की दुकान, ग्रोसरी, सब्जी, दूध, बेकरी, दवा की दुकान व सैलून वाले शामिल हैं। 
5. क्रॉनिक डिजीज : शुगर, बीपी, कैंसर, श्वांस, किडनी, डायलिसिस, थायराइड, टीबी, हार्ट, एचआईवी जैसे रोगी जिनमें इम्युनिटी कम होती है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना