जोधपुर की हवा हुई जहरीली:दिवाली की रात 12 बजे 700 पार था एक्यूआई लेवल, 2 दिन बाद भी 328 के खतरनाक स्तर पर

जोधपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डंपिंग स्टेशन पर पड़े कचरे में लगी आग - Dainik Bhaskar
डंपिंग स्टेशन पर पड़े कचरे में लगी आग

दिवाली की रात हुई आतिशबाजी से शहर की आबोहवा बुरी तरह बिगड़ गई। 4 नवंबर की रात 12 बजे तो एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) 700 के पार पहुंच गया, जो अत्यधिक घातक माना जाता है। जबकि इससे पहले 3 नवंबर को रात 12 बजे एक्यूआई लेवल 186 था।

यानी 24 घंटे में एक्यूआई लेवल चार गुना तक बढ़ गया। ग्रीन पटाखों का असर नहीं दिखने से शुक्रवार अलसुबह तक आसमान में धुआं-धुआं फैला था। प्रदूषण के लिहाज से शहर रेड जोन में रहा। इतना ही नहीं प्रदूषण का असर दो दिन बाद भी कम नहीं हुआ। शनिवार को औसत एक्यूआई लेवल 328 के खतरनाक स्तर पर था।

शहर में प्रदूषण जांचने के लिए 10 मशीनें लगी हुई है। इनमें से 9 की रिपोर्टिंग ऑफलाइन है। केवल पावटा में कलेक्ट्रेट के बाहर लगी मशीन से ही शहर की आबोहवा का पता लग पाता है। दिवाली की रात के हालात केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की वेबसाइट के आंकड़ों से पता चले। डॉक्टर्स की मानें तो एक्यूआई लेवल अगर 250 के पार हो तो अस्थमा रोगियों के लिए परेशानी बढ़ जाती है। इसके अलावा लोगों को आंख-नाक में जलन, जी घबराना व

सिरदर्द जैसी शिकायतें भी होती हैं।
डंपिंग स्टेशन पर पड़े कचरे में लगी आग, 2 किमी तक धुआं ही धुआं
स्टेशन के दूसरे गेट के पास निगम का डंपिंग स्टेशन में दिनभर सड़ांध मारते कचरे के ढेर लगे रहते है। दिवाली की रात अचानक आग लग गई। इससे फैला धुआं करीब 2 किमी तक का फैला। आसपास के इलाके में लोगों को सांस लेने में भी तकलीफ हुई।

खबरें और भी हैं...