जालोरी गेट चौराहे पर पुलिस पहरा:बाल मुकुंद बिस्सा की मनाई पुण्यतिथी, परिवार के पांच सदस्य को मिली अनुमति

6 महीने पहले
स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा की पुण्यतिथि

जोधपुर के जालोरी गेट चौराहा आज फिर पुलिस छावनी बना। स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा की पुण्यतिथि पर उनके परिजनों ने फूल मालाएं अर्पित की। इस दौरान पुलिस का कड़ा पहरा रहा। बता दें कि यह वही स्थल और मूर्ति है जहां धर्म विशेष का झंडा फहराने के बाद 2 मई को दंगे हुए थे। आज उनकी पुण्यतिथि पर पुलिस ने कड़ा पहरा लगाया और सिर्फ उनके परिजनों ने मूर्ति तक पहुंच कर फूल मालाएं अर्पित की।

साथ ही चौराहे के पास पुलिस चौकी के पीछे तस्वीर रख कर पुष्पांजली का कार्यक्रम आयोजित किया। स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा के परिवार से उनके पोत्र महेश बिस्सा, कार्यक्रम संयोजक गोल्डी बिस्सा, सोमदत्त हर्ष पीसीसी सदस्य, अरुण कुमार जोशी, पवन मेहता आदि मौजूद थे।

55 साल से यहां कार्यक्रम आयोजित हो रहा है।
55 साल से यहां कार्यक्रम आयोजित हो रहा है।

गोल्डी बिस्सा ने बताया कि 55 साल से यहां कार्यक्रम आयोजित हो रहा है। इस बार अनुमति लेनी पड़ी। उन्होंने बताया कि अनुमति कल मिली थी। धारा 144 लागू हाेने के कारण बड़ा आयोजन नहीं हो पाया। परिवार के पांच सदस्य ही मूर्ति पर माल्यार्पण कर सके।

बता दें कि 2 व 3 मई को दंगों के बाद से जालोरी गेट चौराहा पुलिस के पहरे में है। आज जाब्ता ज्यादा बढ़ाया गया। यहां धारा 144 लागू होने से चौराहे पर लगी मूर्ति तक किसी को जाने की अनुमति नहीं है। साथ ही किसी भी आयोजन पर कोई भी झंडा लगाने पर भी रोक लगा रखी है।