पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गणेश प्रतिमा विसर्जन को लेकर हुआ था विवाद:27 साल पुराने मामले में भाजपा नेता मेघराज लोहिया को हाईकोर्ट से मिली आंशिक राहत, गिरफ्तारी पर रोक

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भाजपा नेता मेघराज लोहिया प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ। - Dainik Bhaskar
भाजपा नेता मेघराज लोहिया प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ।
  • एफआईआर को ही अपास्त कराने के लिए हाईकोर्ट पहुंचे लोहिया
  • अब 28 फरवरी को होगी अगली सुनवाई, राज्य सरकार से मांगा जवाब

शहर में 27 वर्ष पूर्व गणेश प्रतिमा विसर्जन को लेकर उपजे विवाद में गिरफ्तारी से बचने के लिए हाईकोर्ट पहुंचे राजसिको के पूर्व अध्यक्ष मेघराज लोहिया को आंशिक राहत मिल गई है। हाईकोर्ट ने अगली सुनवाई तिथि 28 फरवरी तक उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगाते हुए मामले में राज्य सरकार से जवाब मांगा है।

लोहिया ने एफआईआर को ही अपास्त कराने के लिए याचिका दायर की थी। राजस्थान हाईकोर्ट में शुक्रवार को न्यायाधीश पीएस भाटी की कोर्ट लोहिया की याचिका पर सुनवाई हुई। अधिवक्ता केएल ठाकुर ने लोहिया का पक्ष रखा। जबकि राज्य सरकार का पक्ष अतिरिक्त महाधिवक्ता फरजंद अली ने रखा। न्यायाधीश भाटी ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद लोहिया की गिरफ्तारी पर अगली सुनवाई तिथि तक रोक लगा दी। इससे लोहिया को फौरी तौर पर अवश्य राहत मिल गई।

गणेश प्रतिमा विसर्जन मार्ग के विवाद को लेकर हुए उपद्रव के मामले में भाजपा नेता मेघराज लोहिया सहित तीन जनों के विरूद्ध पुलिस 27 साल बाद भी नोटिस तामील नहीं करवा पाई। अब जब इस मामले में अन्य 23 जनों के विरूद्ध कोर्ट में चार्जशीट पेश की गई और इन भाजपा नेताओं से अनुसंधान कर नतीजा रिपोर्ट पेश करने के संबंध में अधीनस्थ कोर्ट को पुलिस ने आश्वस्त किया तो भाजपा नेताओं की चिंता बढ़ गई। भाजपा नेता लोहिया सहित कुछ अन्य आरोपी अब एफआईआर को ही अपास्त कराने के लिए हाईकोर्ट पहुंच गए।

नोटिस तामील होने के बाद उपस्थित होना जरूरी

पुलिस ने कुल 26 आरोपियों में से 23 आरोपियों से जांच कर उनके खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट पेश कर दी। पुलिस ने जिन आईपीसी की धारा 147, 109, 336, 353, 332 व पीडीपी एक्ट की धारा 3 के तहत मामला दर्ज किया है, इसमें सात साल से कम की सजा का प्रावधान है। ऐसे में मामले में आरोपी को गिरफ्तार कर पूछताछ नहीं की जा सकती है। पुलिस पहले आरोपी को सीआरपीसी धारा 41 (क) के तहत नोटिस जारी कर उसे आरोपी से तामील करवाती है। अगर नोटिस तामील हो जाता है और आरोपी जांच के लिए पुलिस के समक्ष उपस्थित नहीं होता है तो गिरफ्तार कर पुलिस पूछताछ कर सकती है।

पुलिस पर पूछताछ का रहेगा दबाव

27 साल बाद भी पूछताछ के लिए जारी नोटिस तामील नहीं होने तथा अन्य आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट पेश होने पर अब पुलिस पर नोटिस तामील करवाने का दबाव रहेगा। पुलिस नोटिस जारी कर तामील करवाती है तो लोहिया को उपस्थित होना पड़ेगा तथा नहीं होने की स्थिति में गिरफ्तारी भी हो सकती है।

ना अरेस्ट हो ना केस चले, इसलिए पहुंचे कोर्ट

लोहिया न तो पुलिस के समक्ष उपस्थित होना चाहते हैं ना केस लंबा चलाने के पक्ष में है। इसलिए उनके विरूद्ध दर्ज इस एफआईआर को ही अपास्त कराने के लिए हाईकोर्ट पहुंचे। इस मामले की जांच सीआईडी सीबी व पुलिस के करीब 14 अफसरों ने जांच की । इनमें सीआईडी के निरीक्षक गोपाल रामावत, विष्णुदेव, गोमसिंह, भंवरसिंह, नरेंद्र शर्मा, पुलिस निरीक्षक बृजलाल, रामाकिशन, माधोसिंह, गौतम जैन, हरजीराम, राजूराम, मदन बेनिवाल, प्रदीप कुमार व राजेश यादव ने जांच की। यादव ने ही चार्जशीट पेश की है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

और पढ़ें