पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Business Halted For Two And A Half Months After Lockdown, Subscriptions Less In One Month Of Unlock, Distressed Traders Said Government Should Give Relief Package

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना इफैक्ट:लॉकडाउन के ढाई माह व्यापार ठप, अनलॉक के एक माह में ग्राहकी कम, परेशान व्यापारी बोले- सरकार दे राहत पैकेज

जोधपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिजनेस ठप होने से व्यापारियों के सामने मौजूदा हालात में भी कई चुनौतियां, स्टाफ का वेतन तक नहीं दे पा रहे
  • बाजार को चाहिए राहत, व्यापारी संगठनों ने कहा- व्यापारियों की परेशानियों को समझे सरकार, ताकि उभर सके व्यापार

शहर में अनलॉक-1 को हुए एक माह से ज्यादा समय बीत चुका है, लेकिन लॉकडाउन की मार से ठप हुआ व्यापार अभी तक गति नहीं पकड़ सका है। लॉकडाउन में दो से ढाई माह तक शहर के बाजार बिल्कुल बंद रहे थे। इनमें न तो ग्राहकी थी और न ही कोई व्यापार। इन ढाई माह की मार से जोधपुर शहर के व्यापारी अभी भी उभर नहीं पाए हैं।

लॉकडाउन की वजह से ऐसी कई वित्तीय, प्रशासनिक व राज्य स्तर की समस्याएं पैदा हो गईं, जिनसे व्यापारी आज भी जूझ रहा है। जोधपुर के व्यापारियों का मनाना है कि व्यापार को चलाने के लिए राज्य सरकार को एक विशेष राहत पैकेज की घोषणा करनी चाहिए अथवा व्यापारियों के लिए कुछ विशेष रियायतें देनी चाहिए, ताकि लॉकडाउन की वजह से हुई परेशानियों से व्यापारी वर्ग निजात पा सके।
दुकानें बंद रहीं, लेकिन किराया शुरू
शहर के मुख्य बाजारों में छोटे-बड़े शोरूम और दुकानें हैं और जिनका किराया प्रतिमाह 30 हजार से 1.5 लाख रुपए तक है। ये बाजार 25 मार्च से 1 जून तक पूर्ण रूप से बंद थे। इन दिनों का किराया उन्हें भरना पड़ रहा है। इस दौरान न तो ये दुकानें खुलीं और न ही इनमें व्यापार हुआ। ऐसे में व्यापारी पर 1 से 5 लाख रुपए का किराया चढ़ गया, जो चुकाना भारी पड़ रहा है।

स्टाफ का वेतन भी नहीं निकल रहा
शहर में 10 हजार से ज्यादा दुकानें हैं। इनमें 1 लाख से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं। इनका प्रति व्यक्ति वेतन 12 हजार प्रतिमाह है। लॉकडाउन के दौरान अधिकांश कर्मचारियों को पहले माह का तो पूरा भुगतान कर दिया गया था। इसके अलावा भी कई कर्मचारियों को दूसरे माह भी पूरा तथा कहीं अाधा भुगतान किया। अब बाजार खुले, लेकिन ग्राहकी नहीं है, ऐसे में स्टाफ को भुगतान करना भारी पड़ रहा है।

ग्राहकों में भय, इसलिए बाजार नहीं आ रहे
भीतरी शहर के बाजार खुले हुए एक माह से ज्यादा का समय गुजर चुका है, लेकिन लोगों में अभी भी भय है। उनका मानना है कि कुछ बाजार जिनमें पहले अत्यधिक संक्रमित आए थे, वे क्षेत्र अभी भी संक्रमित हैं और इसी वजह से ग्राहकी कम है। जबकि वे काफी समय पहले ही संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। सरकार को उन्हें संक्रमण मुक्त घोषित करना चाहिए।
दुकानें बंद, फिर भी बिजली के औसत बिल
शहर के मुख्य बाजारों की हजारों दुकानें लॉकडाउन में ढाई माह तक बंद रहीं। ऐसे में बिजली के बिल में केवल कुछ स्थाई शुल्क ही आने चाहिए, लेकिन डिस्कॉम की ओर से इन माह के आए बिलों में औसत बिल बनाकर भेजा जा रहा है।
पहले किराया, वेतन और अब बिजली के बिल की पड़ रही मार
लॉकडाउन के समय का किराया और कर्मचारियों का वेतन चुकाने में व्यापारियों को समस्या आ ही रही थी। इसके बाद लॉकडाउन खुला तो व्यापार फिर से शुरू हुआ, लेकिन व्यापार में गति आने से पहले बिजली के एवरेज बिल आना शुरू हो गए। जब बिजली का उपयोग नहीं हुआ तो शुल्क क्यों? - जसबीर सिंह सलूजा, अध्यक्ष, जोधपुर इलेक्ट्रॉनिक एसोसिएशन
व्यापारियों के लिए विशेष राहत पैकेज की घोषणा करे सरकार
केंद्र और राज्य सरकार के अरबों रुपए के पैकेज और काेराेना डेमेज कंट्रोल प्लान में दुकानदार के लिए कोई सीधा कर्ज अथवा राहत मिलने के प्रयास नहीं हुए, ऐसे में दुकानदार अपना व्यवसाय नहीं चला पा रहे। सरकार को व्यापारियों के लिए विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा करनी चाहिए। - नवीन सोनी, अध्यक्ष, नई सड़क व्यापारी संघ
व्यापारी मुश्किल में हैं, स्टाफ का वेतन तक निकालना हो रहा मुश्किल
लॉकडाउन से आए संकट की वजह से व्यापारी स्टाफ के वेतन तक नहीं निकाल पा रहे हैं। इन परेशानियों के समाधान के लिए समय रहते गंभीरता से विचार नहीं किया तो बहुत मुश्किल होगी। देश की अर्थव्यवस्था की रीड रिटेल सेक्टर का चरमराना बेहद घातक है। सरकार इस पर विचार करे। - दीपक सोनी, त्रिपोलिया बाजार, मोती चौक व्यापारी संघ


खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

    और पढ़ें