सरपंच-ग्राम सेवक विवाद में दूसरे दिन भी शिविर की खानापूर्ति:सरपंच की मौजदूगी के बगैर लगाया शिविर, एक भी पट्टा नहीं बंटा,बहिष्कार के कारण काम नहीं हुए

जोधपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सरपंच शिविर में नहीं आई। - Dainik Bhaskar
सरपंच शिविर में नहीं आई।

प्रशासन गांवों के संग अभियान में चल रहे सरपंच ग्राम विकास अधिकारी विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। बुधवार को मेलाणा ग्राम पंचायत में सरपंच ग्राम विकास अधिकारी विवाद के चलते शिविर का आयोजन नहीं हुआ। इस दौरान मौके पर उपखण्ड अधिकारी से वार्ता के दौरान लवेरा कलां सरपंच ने भी ग्राम सेवक को लेकर आपत्ति जताई। जिस पर उपखण्ड अधिकारी सुमित्रा पारीक ने आगामी दिनों में शिविर आयोजन करवाने की सहमति दी लेकिन गुरुवार को लवेरा कलां में प्रशासन गांवों के संग अभियान का आयोजन बिना सरपंच के ही कर दिया।

शिविर की पूर्व तैयारी में 46 ग्रामीणों ने अपने घरों के पट्टे बनवाने के लिए आवेदन आए थे लेकिन सरपंच के शिविर में नहीं आने के कारण पट्टे नहीं बन सके एवं पंचायती राज से संबधित कोई कार्य नहीं हो सका। सरपंच लीला चौधरी ने बताया कि बुधवार को उपखण्ड अधिकारी के बीच हुई वार्ता के अनुसार शिविर आगामी दिनों में करवाने पर सहमति बनी थी। लेकिन एक दिन बाद ही शिविर करा दिया। शिविर में कार्य नहीं हो सके जिसके चलते शिविर का लाभ आमजन को नहीं मिल सका।

वहीं, कार्यवाहक विकास अधिकारी संजय हंस ने बताया कि सरपंच एवं ग्राम विकास अधिकारी के विवाद के चलते शिविर में अन्य 22 विभागों के कार्यों को नहीं रोका जा सकता है। ग्रामीणों को राहत प्रदान करने के उद्देश्य से शिविर का आयोजन करवाया। ग्राम विकास अधिकारी विवाद भी जल्द ही निपटा दिया जाएगा। दूसरी ओर ग्राम विकास अधिकारी अशोक विश्नोई ने बताया कि देर रात उच्चाधिकारियों के मिले निर्देश के बाद मोबाइल पर मैसेज कर सरपंच को शिविर की सूचना दे दी गई थी। उसके बाद भी सरपंच शिविर में नहीं आई।

खबरें और भी हैं...