पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Campaigned Loudly, People Gathered Before The Target, The Vaccine Was Over, The Target Of 2.50 Lakh Vaccines Crossed 1 Lakh By 12 O'clock

जोधपुर का मेगा वैक्सीनेशन कैंप:जोर शोर से किया प्रचार, लोग उमड़ पड़े; टारगेट से पहले वैक्सीन खत्म, वैक्सीन आने में पांच घंटे का समय लगेगा

जोधपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रेलवे हॉस्पिटल में वैक्सीनेशन के लिए पहुंचे लोग - Dainik Bhaskar
रेलवे हॉस्पिटल में वैक्सीनेशन के लिए पहुंचे लोग

कोविड की तीसरी लहर की आशंका के बीच जल्द से जल्द जोधपुर को पूरी तरह वैक्सीनेट करने की तैयारियां चल रही हैं। इसी के चलते मेगा वैक्सीनेशन कैंप का आयोजन किया गया। इसके लिए जोरो से प्रचार-प्रसार किया गया। लेकिन कैंप के शुरू होते ही ब्रेक लग गया। क्योंकि अधिकांश सेंटर पर वैक्सीन ही नहीं पहुंची। लोग कई घंटों से कतार में खड़े नजर आए। हालांकि चिकित्सा विभाग ने शाम को फिर से वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू करने का आश्वासन दिया।

1036 वैक्सीन साइट, अधिकांश में लगा ब्रेक

कोरोना वैक्सीन के लिए चिकित्सा विभाग ने आज बुधवार को मेगा कैंप का आयोजन किया। इस कैंप में 1036 वैक्सीन साइट चिह्नित कर करीब 2.50 लाख लोगों को वैक्सीनेट करने का टारगेट रखा। लेकिन समय से पहले ही वैक्सीन खत्म हो गई। वैक्सीन लगाने लोग उमड़ पड़े 12 बजे तक एक लाख का आंकड़ा पार कर लिया। लेकिन अधिकांश सेंटर पर वैक्सीन खत्म होने से स्थितियां गड़बड़ा गई। दोपहर एक बजे अधिकांश सेंटर पर ब्रेक लग गया। हालांकि इस दौरान रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया सुचारु रखने के आदेश दिए गए। लेकिन भीड़ और वैक्सीन की कमी से व्यवस्था बिगड़ी। रेजिडेंसी हॉस्पिटल में वैक्सीन खत्म होने से हंगामा हुआ। धवा सेंटर पर भी अव्यवस्था सामने आई।

वैक्सीन आने में पांच घंटे का समय लगेगा

सीएमएचओ बलवंत मंडा ने बताया कि सभी सेंटर पर उम्मीद से ज्यादा लोग पहुंचे है। शहरी सेंटर पर वैक्सीन खत्म हो चुकी है। इस ब्रेक के दौरान रजिस्ट्रेशन करवाने की सलाह दी गई है। शाम पांच बजे तक जयपुर से वैक्सीन पहुंच जाएगी तब फिर से लगातार वैक्सीनेशन शुरु होगा। उन्होंने बताया कि देर रात तक टारगेट पूरा ना हो तब तक कैंप जारी रहेगा।

शहरी सेंटर पर पहुंचे लाभार्थी वापस लौटे

कोरोना की तीसरी लहर का खतरा मंडरा रहा है ऐसे में हर कोई वैक्सीन लगाने के लिए जागरुकता दिखा रहा है। ऑनलाइन स्लॉट बुक नहीं होने और वैक्सीन की कमी से धीमी गति से चल रहे वैक्सीनेशन के चलते लाखों लोग अभी वैक्सीन से वंचित है। ऐसे में मेगा कैंप में आकर वैक्सीन लगाने के लिए लाभार्थी उमड़े लेकिन यहां भी अधिकांश लोगों को निराशा ही हाथ लगी। वैक्सीन खतम होने से उन्हें वापस लौटना पड़ा।

ऐसे तो कैसे होगा टारगेट पूरा

अब तक जोधपुर में 26,17,219 टीके लग चुके हैं। इनमें 19,24,559 पहली डोज और 6,92,660 दूसरी डोज लगाई गई है। कोरोना से बचाव के लिए जरूरी वैक्सीन के ऐसे 10 कैंप हों तो सितंबर में ही चिह्नित सभी लाभार्थी वैक्सीनेट हो सकते हैं। लेकिन विभाग के सामने वैक्सीन मिलने की बड़ी समस्या है। जिले में 27.46 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जानी है। इनमें से 26 लाख डोज लगाई जा चुकी हैं। यानी कुल 54.92 लाख डोज लगाई जानी हैं। अब तक 20.54 लाख लोग दूसरी डोज से वंचित हैं।

ऑनलाइन बुकिंग सेंटर पर भी ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए पहुंचे

सभी ग्रामीण वैक्सीनेशन सेंटर पर शत-प्रतिशत ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा रखी गई थी। पहचान पत्र और मोबाइल साथ लेकर अपने निकटतम वैक्सीनेशन सेंटर पर लोग वैक्सीनेशन करवाने पहुंचे ऐसे में भीड़ ज्यादा हो गई। । इधर शहरी क्षेत्र में कुछ वैक्सीनेशन सेंटर पर ऑनलाइन स्लॉट बुकिंग की सुविधा थी लेकिन जिन लाभार्थियों का स्लॉट बुक नहीं हुआ वे भी वैक्सीनेशन सेंटर पर जाकर ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन करवा वैक्सीन लगवाने पहुंचे। शहरी क्षेत्रों के सेंटर पर समय से पहले ही वैक्सीन खत्म हो गई। जिले के गांवों में 774 साइटों पर कोविशील्ड व 62 पर कोवैक्सीन उपलबध थी। शहर में 200 जगह टीके लगे है।

खबरें और भी हैं...