वार्षिकोत्सव कार्यक्रम:सेरिमोनियल परेड ने लुभाया, मलखंभ ने रोमांच बढ़ाया

जाेधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

करीब दाे साल बाद चौपासनी स्कूल का वार्षिकोत्सव और सर प्रताप की 177वीं जयंती समारोहपूर्वक मनाई गई। चौपासनी स्कूल परिसर में 507 बच्चों की सेरिमोनियल परेड व अश्व प्रदर्शन तथा 200 बालक-बालिकाओ द्वारा लेजियम की प्रस्तुति आकर्षण का केंद्र रही। इस मौके पर विभिन्न कार्यक्रम में 1500 बच्चों ने शानदार प्रस्तुतियां दी। खास बात यह रही कि चौपासनी शिक्षण समिति द्वारा करीब दस साल पुराने बच्चों के घुड़सवार दल ने मुख्य अतिथि को गेस्ट ऑफ ऑनर देते हुए घोड़ों की परेड करवाकर मुख्य अतिथि को मंच तक पहुंचाया। परेड कमांडर धर्मेंद्र सिंह डांवरा के नेतृत्व में हुई।

विद्यार्थियों ने बैगपाइपर बैंड की सुंदर प्रस्तुति दी। विद्यार्थियों ने मलखंभ व मानवेंद्र सिंह महेचा के नेतृत्व में लेजियम की प्रस्तुति दी। बच्चों ने नाथूसिंह व पुष्पेंद्रसिंह के निर्देशन में जिम्नास्टिक व फ्लोर एक्सरसाइज का प्रदर्शन कर तालियां बटोरी। विद्यार्थियों ने काव्यपाठ, भाषण,

सामूहिक गीत, सामूहिक नृत्य की मनभावन प्रस्तुतियां दी। सर्वाधिक अंक प्राप्त करने पर चौपासनी सीनियर सैकंडरी स्कूल की किरण जोधा, हनवंत चौपासनी स्कूल के हर्षवर्धन सिंह राठौड़ व मयूर चौपासनी स्कूल की भूमिका सिंह राठौड़ काे प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित किया गया।

समारोह के मुख्य अतिथि महानिरीक्षक बीएसएफ मदनसिंह राठौड़ ने कहा कि चौपासनी स्कूल के संस्थापक सर प्रताप की दूरदृष्टि का परिणाम रहा कि उन्होंने शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए चौपासनी नाम के पौधे को लगाया जो आज पेड़ बन गया है। इसको और ऊंचे पायदान पर पहुंचाने का काम यहां के स्टाफ व इससे जुड़े लोगों का है। संस्थान के मुख्य संरक्षक पूर्व नरेश गजसिंह ने कहा कि सर प्रताप बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे।

उन्होंने मारवाड़ में हर समाज को शिक्षित करने के लिए शिक्षण संस्थान खुलवाए। कुरीतियों पर रोक लगाई व सामाजिक उत्थान के कार्य किए। महापौर कुंती परिहार ने कहा कि स्कूल का लंबा इतिहास है। चौपासनी शिक्षा समिति के अध्यक्ष अर्जुनसिंह देवड़ा ने कहा कि इस स्कूल में अध्यापन कर चुके विद्यार्थियों को उल्लेखनीय कार्य के लिए परमवीर, महावीर चक्र, वीर चक्र, पदमश्री, पदम भूषण, द्रोणाचार्य सहित अन्य अवॉर्ड मिले हुए हैं।

समिति के सचिव मानसिंह पाल ने कहा कि श्री हनवंत अंग्रेजी माध्यम विद्यालय के लिए अलग से छात्रावास, श्री हनवंत प्राइमरी ब्लॉक को अलग शुरू करने व बीएड कॉलेज के 12 कमरों के ब्लॉक निर्माण का प्रोजेक्ट बनाया गया है। कार्यक्रम के अंत में आतिशबाजी की गई। संचालन डॉ. भोम सिंह राठौड़, विनिता हरदानी व बिशनसिंह आमला ने किया। आभार हनुमानसिंह खांगटा ने जताया।

समारोह में मेजर जनरल शेरसिंह, कमांडेंट योगेंद्र सिंह राठौड़, शंकरसिंह मेहरोली, राघवेन्द्र सिंह झालामण्ड, चक्रवर्ती सिंह राखी, कर्नल शंभूसिंह देवड़ा, मेजर मनोहर सिंह कोरना, कर्नल लक्ष्मण सिंह, अर्जुनसिंह रुणकिया, नाथूसिंह खंगार, राजेंद्र सिंह लीलिया, शरद तिवारी, दुर्गादास सिंह राठौड़, नीलकमल सिंह, मनजीतसिंह, हरदयालसिंह आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...