युवती बोली- इन कुत्तों को नहीं ले जाने दूंगी, VIDEO:नगर निगम की डॉग कैचिंग टीम से भिड़ी; गाड़ी पर चढ़कर बैठी

जोधपुर14 दिन पहले
जोधपुर में नगर निगम उत्तर की डॉग कैचिंग टीम जब कार्रवाई करने घंटाघर पहुंची तो एक युवती उनके वाहन पर बैठकर कार्रवाई के विरोध में रोने लगी।

जोधपुर में बुधवार को शहर के घंटाघर इलाके में नगर निगम की स्ट्रीट डॉग कैचिंग टीम से एक युवती भिड़ गई। टीम आवारा कुत्तों को पकड़कर ले जा रही थी। इस दौरान युवती बोली- मैं इन्हें नहीं ले जाने दूंगी, कुछ भी हो मैं नहीं ले जाने दूंगी...। यह कहते हुए युवती रो पड़ी।

युवती की यह हरकत देखकर घंटाघर इलाके में लोगों की भीड़ लग गई। कुछ लोग अपने मोबाइल में युवती का वीडियो बनाने लगे। नगर निगम की टीम युवती को समझाने में लगी रही। डॉग लवर युवती टीम की इस कार्रवाई का विरोध प्रकट करने लगी। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया गया।

दरअसल नगर निगम उत्तर की डॉग कैचिंग टीम को घंटाघर और आसपास के क्षेत्रों से लंबे समय से बेसहारा कुत्तों से आ रही परेशानी की शिकायतें मिल रही थीं। इस पर टीम के प्रभारी पंकज पंडित के नेतृत्व में वाहन पहुंचा और 4 से 5 कुत्तों को पकड़ लिया। इस दौरान कविता सिंघवी नाम की एक युवती वहां आई और इस कार्यवाही का विरोध करने लगी।

कविता का आरोप था कि कुत्तों को गलत तरीके से टीम ने पकड़ा है।

नगर निगम उत्तर की ओर से कुत्तों को पकड़कर वाहन में ले जाते हुए।
नगर निगम उत्तर की ओर से कुत्तों को पकड़कर वाहन में ले जाते हुए।

इसके बाद कविता कुत्तों को पकड़ने वाली गाड़ी पर ही बैठ गई और कुत्तों को नहीं ले जाने के लिए मांग करने लगी। साथ ही उसके आंसू भी निकल आए। लेकिन निगम की टीम ने उच्चाधिकारियों का आदेश बताते हुए कार्यवाही को ड्रॉप करने से इनकार कर दिया।

युवती वाहन से नहीं उतरने की जिद पर अड़ी रही। इस पर नगर निगम की टीम उस वाहन को जिस पर कविता बैठी थी उसे लेकर रवाना हो गई। इसका किसी ने वीडियो बना लिया जो कि बाद में सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। कविता करुणा फाउंडेशन नाम से एक संस्थान भी चलाती है जो कि आवारा पशुओं के लिए काम करती है।

यह भी पढ़ें

जयपुर में युवकों के टॉर्चर से परेशान होकर किया सुसाइड:रूममेट के दोस्त कमरे में आकर पीटते थे, फंदे पर लटका बीएससी स्टूडेंट

जयपुर में B.Sc. फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट अमित मीणा (17) ने सुसाइड कर लिया। आरोप है कि उसके रूममेट के दोस्त उसे परेशान करते थे। रूम पर आकर उसे शराब पिलाते थे। मारते-पीटते थे। जान से मारने की धमकी देते थे। अमित का शव सबसे पहले पास में ही रहने वाले युवक शोभित ने देखा। अमित कमरे में फंदे पर लटका हुआ था। शोभित ने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद करौली से परिवार भी मौके पर पहुंचा। कमरे की तलाशी ली गई तो 4 पन्नों का सुसाइड नोट मिला है। इसके बाद पुलिस ने 5 लड़कों के खिलाफ आत्महत्या के लिए दबाव बनाने का केस दर्ज किया है। (पूरी खबर पढ़ें)