पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ोतरी का विरोध:लंबे अरसे बाद सुस्ती छोड़ विरोध प्रदर्शन में शामिल होने घरों से निकले कांग्रेस कार्यकर्ता

जोधपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर में शुक्रवार को पेट्रोल व डीजल के दाम बढ़ाने के खिलाफ प्रदश4न करते कांग्रेस कार्यकर्ता। फोटो एल देव जांगिड़ - Dainik Bhaskar
जोधपुर में शुक्रवार को पेट्रोल व डीजल के दाम बढ़ाने के खिलाफ प्रदश4न करते कांग्रेस कार्यकर्ता। फोटो एल देव जांगिड़

देश में पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ते दाम के विरोध में आज प्रदेश की सत्ताधारी कांग्रेस के कार्यकर्ता अपनी सुस्ती त्याग प्रदर्शन करने घरों से बाहर निकले। कोरोना गाइडलाइन की पालना में कांग्रेस ने शहर के 19 पेट्रोल पंपों पर धरना प्रदर्शन आयोजित किया। कुछ स्थान पर चुनीन्दा कार्यकर्ता ही नजर आए वहीं कुछेक स्थान पर बड़ी संख्या में कार्यकर्ता एकत्र हो गए। इस कारण सोशल डिस्टेंसिंग की पालना धरी रह गई।

शहर जिला कांग्रेस कमेटी के निवर्तमान अध्यक्ष सईद अंसारी ने बताया कि गत पांच माह में 43 बार पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाए गए है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम में कमी आने के बावजूद देश में पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ा आम आदमी पर बोझ बढ़ाया जा रहा है। तेल के दाम बढ़ने से ट्रांसपोर्ट लागत काफी बढ़ गई। ऐसे में सभी वस्तुओं के दाम में तेजी आ गई। कोरोना के कारण आमजन पहले से त्रस्त है। ऊपर से तेल के दाम ने रही सही कसर पूरी कर दी। उन्होंने बताया कि तेल के दाम बढ़ाने के विरोध में आज शहर के 19 पेट्रोल पंपों के बाहर पार्टी कार्यकर्ताओं ने धरना दिया व विरोध प्रदर्शन कर विरोध जताया।

वहीं हाईकोर्ट रोड पर कार्यकर्ताओं ने अपने शर्ट उतार कर केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उन्होंने कटोरा लेकर रास्ते से निकल रहे लोगों से प्रतीकात्मक रूप से भीख भी मांगी।

उल्लेखनीय है कि गत वर्ष बगावत के पश्चात सचिन पायलट को प्रदेशाध्यक्ष के पद से हटा दिया गया था। इसके साथ ही सभी जिला कार्यकारिणी को भंग कर दिया गया। ऐसे में लंबे अरसे से कांग्रेस जिलों में नेतृत्व विहीन है। शहर में किसान आंदोलन को कांग्रेस ने समर्थन अवश्य दिया, लेकिन नेतृत्व के अभाव में कार्यकर्ता एक बार भी सड़क पर नहीं उतरे। ऐसे में आज सभी की निगाह इस तरफ लगी थी कि वे सड़क पर उतरते है या नहीं।आज बड़े नेताओं के इर्दगिर्द हमेशा साए की तरह मंडराने वाले कार्यकर्ता ही विरोद प्रदर्शनों में हिस्सेदार बने।

खबरें और भी हैं...