जोधपुर में बन रहीं वैक्सीन की सिरिंज और नीडल्स:वैक्सीनेशन के लिए 5.93 करोड़ नीडल्स सप्लाई कर चुके, 25 करोड़ के ऑर्डर पेंडिंग; फरीदाबाद और जोधपुर में ही बनती हैं

जोधपुर8 महीने पहलेलेखक: सुनील चौधरी
जोधपुर की इस्कॉन सर्जिकल करीब 200 तरह की नीडल्स और सिरिंज का निर्माण करती है।

कोरोना वैक्सीनेशन को देश-दुनिया में रफ्तार देने की तैयारी है। वैक्सीन लगाने के लिए सिरिंज व नीडल्स जोधपुर में बन रही हैं। यहां बनाई गईं 5.93 करोड़ नीडल्स से अब तक लोगों को टीका लगाया जा चुका है। वहीं, करोड़ों नीडल्स का निर्माण जारी है। यहां की कंपनी में तीन करोड़ से अधिक सिरिंज और नीडल्स विदेशों में निर्यात भी की जा रही हैं।

देश में दो ही कंपनियां वैक्सीन की नीडल और सिरिंज बनाती हैं
भारत में कोरोना वैक्सीन की सिरिंज और नीडल्स दो ही कंपनियों में बनती हैं। इनमें से एक हरियाणा के फरीदाबाद में है। इसका नाम हिंदुस्तान सिरिंज एंड मेडिकल डिवासेज लिमिटेड है। दूसरी कंपनी जोधपुर में इस्कॉन सर्जिकल प्राइवेट लिमिटेड है। जोधुपर की कंपनी 1982 में स्थापित की गई थी। यह करीब 200 तरह की नीडल्स और सिरिंज का निर्माण करती है। कंपनी का 60% उत्पाद देश में खपता है। 40% उत्पाद का निर्यात 50 से अधिक देशों में किया जाता है।

जोधपुर की कंपनी में तैयार सिरिंज और नीडल्स। इन्हें यहां से दूसरे देशों में भी भेजा जाता है।
जोधपुर की कंपनी में तैयार सिरिंज और नीडल्स। इन्हें यहां से दूसरे देशों में भी भेजा जाता है।

दक्षिण कोरिया से आता है कच्चा माल
कंपनी के डायरेक्टर एनके जैन ने बताया कि नीडल्स के लिए कच्चा माल दक्षिण कोरिया से आता है। कच्चे माल की आपूर्ति में ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है, लेकिन हवाई सेवा बंद होने से कच्चा माल समय पर नहीं पहुंच पाता है। साथ ही समुद्री रास्ते से मंगवाने से लागत भी 100% से अधिक बढ़ गई। सिरिंज के लिए कच्चा माल रिलायंस से मिल जाता है। फिलहाल हमारे पास पर्याप्त मात्रा में कच्चा माल है और हमने अपनी उत्पादन क्षमता को भी काफी बढ़ा दिया है। ऐसे में हम मांग के हिसाब से आपूर्ति कर रहे हैं।

इस तरह तैयार होती है वैक्सीन की सिरिंज और नीडल्स।
इस तरह तैयार होती है वैक्सीन की सिरिंज और नीडल्स।

5.93 करोड़ सिरिंज सरकार को सौंपी
कंपनी के सेल्स हेड संदीप भंडारी ने बताया कि अब तक करीब 5.93 करोड़ सिरिंज-नीडल्स सरकार को सौंपी जा चुकी हैं। वहीं 25 करोड़ से अधिक के ऑर्डर पेंडिंग हैं। इनके अलावा ब्रिटेन से 3 करोड़ और डोमानिका से 30 लाख सिरिंज और नीडल्स का ऑर्डर है। इनमें से डोमानिका को 7 लाख सिरिंज भेजी जा चुकी हैं। ब्रिटेन को करीब 12 लाख सिरिंज की पहली खेप इसी सप्ताह रवाना कर रहे हैं। कुछ और देशों से भी ऑर्डर हैं।

भंडारी ने बताया कि भारत में दिसंबर से अब तक 5.93 करोड़ सिरिंज दे चुके हैं। अक्टूबर में 5.22 करोड़ सिरिंज का और ऑर्डर मिला था। इसकी आपूर्ति हमने फरवरी से शुरू कर दी थी। यह ऑर्डर जून तक पूरा हो जाएगा। दिसंबर में हमें 4.23 करोड़ सिरिंज का नया ऑर्डर मिला।

जोधपुर में तैयार नीडल्स। यहां तैयार की गई नीडल्स और सिरिंज 50 से अधिक देशों में भेजी जाती हैं।
जोधपुर में तैयार नीडल्स। यहां तैयार की गई नीडल्स और सिरिंज 50 से अधिक देशों में भेजी जाती हैं।

उत्पादन क्षमता बढ़ा दी
भंडारी ने बताया कि अभी हमारी उत्पादन क्षमता चार करोड़ सिरिंज प्रति माह की है। जुलाई से इसे 6 करोड़ किया जाएगा। यूरोप के कुछ देशों, दक्षिण कोरिया और ब्राजील से भी सिरिंज सप्लाई पर बातचीत लगभग अंतिम चरण में है। हमें वहां से भी बड़ा ऑर्डर मिलने की उम्मीद है।