पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Dilip Kumar Celebrated 75th Anniversary In Jodhpur, The Event Went On For Three Days In Girdhar Temple, Jodhpur Film City Had Kept Shows Of 11 Films Of Dilip Kumar, Ashok Gehlot Was Also Present

दिलीप कुमार ने जोधपुर में मनाई थी अपनी 75वीं वर्षगांठ:गिरधर मंदिर सिनेमा हॉल में तीन दिन चला था आयोजन, उनकी 11 फिल्मों के शो रखे गए थे, अशोक गहलोत भी थे मौजूद

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर में तीन दिन रहे थे दिलीप कुमार। - Dainik Bhaskar
जोधपुर में तीन दिन रहे थे दिलीप कुमार।

दिलीप कुमार की 75वीं वर्षगांठ जोधपुर में मनाई गई थी। उस समय जोधपुर के गिरधर मंदिर सिनेमा हॉल में दिलीप कुमार की 11 फिल्मों का जनता के लिए शो रखा गया था। हालात यह थे कि नई सड़क पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। तीन दिन दिलीप कुमार जोधपुर रहे। जोधपुर की जनता का स्नेह देख उन्होंने यहां की संस्कृति की तारीफ की थी।

जोधपुर फिल्म सिटी ने दिलीप कुमार की 75वीं वर्षगांठ पर 1993 में दिलीप कुमार फिल्म फेस्टिवल का आयोजन किया था। उस समय इस आयोजन का इनॉगरेशन करने दिलीप कुमार के साथ सायरा बान आई थीं। इस दौरान अशोक गहलोत भी मौजूद थे। इस फिल्म फेस्टिवल में दिलीप कुमार की मुगल ए आजम, मधुमती, देवदास जैसी 11 फिल्मों का शो किया गया था।

दिलीप कुमार के साथ मौजूद अशोक गहलोत।
दिलीप कुमार के साथ मौजूद अशोक गहलोत।

कलाकारों को लगा लिया था गले

इस कार्यक्रम का आयोजन मोहन स्वरुप महेश्वरी, श्याम सिंह टाक, व मानसिंह देवड़ा ने किया था। मंच पर दिलीप कुमार का परिचय मशहूर शायर शीनकाफ निजाम ने दिया। जोधपुर फिल्म फेस्टिवल के सेक्रेटरी प्रो केएल श्रीवास्तव ने बताया कि दिलीप कुमार ने लंगा कलाकारों की परफॉर्मेंस के बाद उन्हें गले लगा लिया था। उन्होंने कहा था कि जोधपुर का कल्चर बहुत अच्छा है। तीन दिन के दौरान उन्होंने उम्मेद भवन पैलेस सहित अन्य जगहों का भ्रमण किया।

आयोजन का इनॉगरेशन करने दिलीप कुमार और सायरा बानो आई थीं।
आयोजन का इनॉगरेशन करने दिलीप कुमार और सायरा बानो आई थीं।

शीनकाफ निजाम ने बताया कि दिलीप कुमार फिल्म फेस्टिवल के दौरान उनकी दिलीप जी से दूसरी मुलाकात थी। पहली मुलाकात मुंबई के नेहरु सेंटर पर हुए मुशायरे के दौरान हुई थी। जोधपुर आए तब उन्होंने मेरे लिए पूछा और मंच पर मुझे देख कर भी पहचान गए। जोधपुर प्रवास के दौरान उम्मेद क्लब में खाना साथ खाया खूब बातें की। वे मुझे निजाम कहकर बुलाते थे।

दिलीप कुमार का माला पहनाकर किया गया था स्वागत।
दिलीप कुमार का माला पहनाकर किया गया था स्वागत।
खबरें और भी हैं...