पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Divya Had Threatened To Go To Sachin's Camp, So Leela Was Stamped By The High Command, Cross Voting Took Place But Due To Equality, It Was Not Revealed

बाड़े बंदी टूटी तो बातें आईं सामने:दिव्या ने सचिन खेमे में जाने की दी थी धमकी, इस दबाव के कारण लीला के नाम पर आलाकमान को लगानी पड़ी मुहर

जोधपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जीत के बाद लीला मदेरणा। - Dainik Bhaskar
जीत के बाद लीला मदेरणा।

जोधपुर जिला प्रमुख चुनाव में भी जमकर खींचतान सामने आई। इधर जब चुनाव के बाद बाड़े बंदी टूटी तो अंदर की बातें भी चौड़े हो गई। सूत्रों के अनुसार ओसियां विधायक दिव्या मदेरणा ने सचिन खेमें में जाने की धमकी दी थी। इस धमकी के बाद कांग्रेस आलाकमान को दबाव में आकर लीला मदेरणा के नाम पर ही मुहर लगानी पड़ी। फिर रणनीति तय कर बाकि प्रत्याशियों को भी मनाने की कोशिश हुई।

लीला मदेरणा के फाइनल होने के बाद मुन्नी को जिला प्रमुख नहीं बनवा पाने से बद्रीराम जाखड़ अनईजी महसूस करने लगे। तबीयत बिगड़ी तो अस्पताल जाना पड़ा।
लीला मदेरणा के फाइनल होने के बाद मुन्नी को जिला प्रमुख नहीं बनवा पाने से बद्रीराम जाखड़ अनईजी महसूस करने लगे। तबीयत बिगड़ी तो अस्पताल जाना पड़ा।

उचियारड़ा में वैलकम होटल में कांग्रेस के जिला परिषद् सदस्यों की बाड़े बंदी हुई थी। यहां ट्रायल वोटिंग भी करवाई गई । सभी 21सदस्यों को लीला के पक्ष में वोट डालने को कहा गया। इस पर वहां मौजूद बद्रीराम जाखड़ ने विरोध दर्ज किया। तब सभी ने आलाकमान के फैसले को मानने पर समर्थन जताया। जाखड़ से बोला गया कि वह अगर साथ नहीं देते है तो अकेले रहेंगे। इस पर जाखड़ नाराज होकर गुस्से में निकले और तबीयत बिगड़ने से अस्पताल में भर्ती हुए। होटल में चले विवाद के चलते कांग्रेसी मतदान के लिए अंतिम आधे घंटे में पहुंचें और जल्दबाजी में वोट दिए। इधर मुन्नी देवी ने वोट देते समय लीला को दिखा कर वोट दिया।

यूं हुई क्रॉस वोटिंग हुई

भाजपा के पास 16 सदस्य थे लेकिन भापजा ने कांग्रेस के तीन सदस्य को अपने पाले में ले रखा था। भाजपा ने गणित लगायाा था कि 16 प्लस तीन होने से 19 वोट उनके हो जाएंगे और कांग्रेस के पास 21 वोट होने से तीन कम होंगे तो 18 कांग्रेस के पक्ष में होंगे ऐसे में एक वोट से भाजपा अपना जिला प्रमुख बना लेगी। भाजपा इस गणित के चलते अपना जिला प्रमुख बनाने का दावा करती रही, लेकिन भाजपा का यह गणित फेल साबित हुआ क्योंकि और कांग्रेस ने भाजपा के तीन वोट अपने पाले में डलवा लिए। इससे आंकड़ा बराबर होने से दिखाई यह दिया जैसे क्रॉस वोटिंग नहीं हुई।

पूर्व जिला प्रमुख ने उतारा अहसान

सूत्रों के अनुसार दो भाजपा सदस्य कांग्रेस के पाले में चले गए थे। जिनमें कमला भवरिया व महेश थे लेकिन तीसरे वोट भाजपा का कांग्रेस के पक्ष में पड़ा उसका यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि पूर्व जिला प्रमुख अमिता चौधरी का वोट लीला को गया है। क्योंकि जब अमिता चौधरी जिला प्रमुख बनी थी उस समय लीला मदेरणा का वोट अमिता चौधरी को गया था। अमिता ने यह अहसान उतारा है।

खबरें और भी हैं...