'टीका उत्सव' ने फिर पकड़ी रफ्तार:दो दिन के लिए पर्याप्त 40 हजार डोज पहुंची, सिर्फ 50 स्थान पर हो रहा है वैक्सीनेशन

जोधपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक चित्र - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक चित्र
  • 45 वर्ष से अधिक आयु के सिर्फ 28 फीसदी ने लगवाई वैक्सीन

जोधपुर में कोरोना वैक्सीन की 40 हजार डोज पहुंचने के साथ टीका उत्सव ने मंगलवार से एक बार फिर रफ्तार पकड़ ली। वैक्सीन के अभाव में बेरंग हुए 'टीका उत्सव' की साइट अब घटाकर महज 50 तक सीमित कर दी गई है। इसमें से अधिकांश शहरी क्षेत्र की हैं।

जोधपुर में वैक्सीन की कमी के कारण 'टीका उत्सव' पटरी से उतर गया था। जोधपुर में सोमवार को सिर्फ 28 साइट पर ही लोगों को वैक्सीन लग पाई। आरसीएचओ डॉ. कौशल दबे ने बताया कि सीमित वैक्सीन के चलते 28 साइट पर 3135 को टीका लगाया गया। इनमें 21 हेल्थ वर्कर, 238 फ्रंटलाइनर, 45-59 साल के 1660 और 60 साल के 534 बुजुर्ग को पहली डोज दी गई। वहीं 27 हेल्थ वर्कर, 59 फ्रंटलाइनर, 45-59 उम्र के 105 और 60 साल से अधिक उम्र के 491 बुजुर्गों को दूसरी डोज लगाई गई।

साढ़े दस लाख लोगों को अभी लगानी है वैक्सीन

जोधपुर में 45 वर्ष से अधिक आयु के करीब साढ़े दस लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जानी है, लेकिन अभी तक 60 वर्ष से अधिक आयु के सिर्फ 53 फीसदी लोगों ने ही वैक्सीन लगवाई है। इनका अभियान एक मार्च से शुरू हो चुका था। वहीं 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों के लिए एक अप्रैल से शुरू हुए वैक्सीनेशन अभियान में अभी तक महज 28 फीसदी लोग ही वैक्सीनेशन करवा पाए हैं। ऐसे में वैक्सीनेशन को रफ्तार देने के प्रयासों पर वैक्सीन की कमी के कारण ब्रेक लग गया। 12 अप्रैल की शाम 40 हजार डोज जोधपुर पहुंची है। यह सिर्फ दो दिन के लिए ही है। सीएमएचओ डॉ. बलवंत मंडा ने कहा कि और वैक्सीन मंगाने के प्रयास जारी हैं। हमारा पूरा प्रयास है कि वैक्सीनेशन अभियान में तेजी लाई जाए। ताकि कोरोना को नियंत्रित करने में सुविधा हो सके।