• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Excavated Stones Up To Double The Limit, Hollowed The Mines, Showed False Figures In The Records, Will Recover 27.88 Crore Penalty From 15 Culprits

अवैध खननकर्ताओं को नोटिस इश्यू:लिमिट से दुगुना तक पत्थर निकाल खानें खोखली कीं, रिकॉर्ड में झूठे आंकड़े दर्शाए, 15 दोषियों से वसूलेंगे 27.88 करोड़ पेनल्टी

जोधपुर16 दिन पहलेलेखक: मनीष बोहरा
  • कॉपी लिंक
सेवकी गांव में अवैध खनन। - Dainik Bhaskar
सेवकी गांव में अवैध खनन।
  • सेवकी गांव में अवैध खनन की जांच कर रही टीम की रिपोर्ट पर बड़ी कार्रवाई

सेवकी गांव में अवैध खनन करने वाले 15 लोगों-फर्मों पर खान विभाग ने 27 करोड़ की पेनल्टी लगाई गई है। यह एक ही स्थान पर अवैध खनन करने वालों से वसूली जाने वाली संभवत: सबसे बड़ी जुर्माना राशि होगी। दरअसल सेवकी में सैंड स्टोन की कई खानें हैं। जितना एरिया खान संचालकों को आवंटित है, उससे कहीं अधिक जमीन खोदकर पत्थर निकाल लिए।

इतना ही नहीं, खान विभाग को अंधेरे में रखने के लिए रिकॉर्ड में गड़बड़ी कर दी। इससे स्थिति यह बन गई कि मौके पर हुए खनन और रिकॉर्ड में जमीन-आसमान का अंतर आ गया। दो-तीन वर्ष पूर्व सेवकी में अवैध खनन की कई शिकायतें होने पर एक टीम गठित हुई थी।

टीम की रिपोर्ट के आधार पर 15 जनों को अवैध खनन का दोषी मानते हुए 27,88,20,776 रुपए की वसूली खान विभाग करेगा। इन्हें 5 अगस्त को नोटिस दिया जा चुका है। इधर खान विभाग के इंजीनियर प्रवीण अग्रवाल ने बताया कि उन्होंने कुछ दिन पहले ही जॉइन किया है, मामले की डिटेल देखकर ही बता पाएंगे।

रिकॉर्ड और मौके की स्थिति में अंतर से हुआ खुलासा

खान मालिकों ने विभाग में रिकॉर्ड पेश किए, वो मौके पर पिट से मेल नहीं खा रहे थे। इससे खुलासा हुआ कि कि तय मात्रा से ज्यादा अवैध खनन किया गया। पिट में खड्‌डे के हिसाब से आंकलन कर जुर्माना किया।

15 पर पेनल्टी- एक से 3.86 करोड़ भी वसूलेंगे

  1. माधुराम: मौके पर पिट में -1,53,040 टन खनन हुआ था। विभाग के रिकॉर्ड में केवल 92,146 टन खनन दर्शाया था। अंतर करीब 60894.50 टन था। जिसकी पेनल्टी बनी 1 करोड़ 40 लाख 5 हजार 735 रुपए।
  2. आईदानराम: मौके पर पिट में 286875 टन खनन था। विभाग के रिकॉर्ड में 1,18,692 टन दर्शाया था। दोनों में अंतर 1,68,183 टन था। पेनल्टी बनी 3,86,82,090 रुपए।
  3. राधेश्याम केला: मौके पर पिट में 1,62,350 टन खनन था। रिकॉर्ड में 1,09,471.6 टन दर्शाया था। दोनों में अंतर मिला 52,878.40 टन। पेनल्टी 1,21,62,032 रुपए बनी।
  4. मैसर्स जयभारत कंस्ट्रक्शन: मौके पर पिट में 1,34,300 टन खनन था। रिकॉर्ड में 1,11,340.1 टन दर्शाया था। अंतर 22,959.90 टन। पेनल्टी 52,80,777 बनी।
  5. मैसर्स जयभारत कंस्ट्रक्शन: मौके पर पिट में 2,16,750 टन खनन था। रिकॉर्ड में 1,21,530.1 टन दर्शाया था। अंतर 95,219.90 टन था। इसकी पेनल्टी 2,19,00,577 रुपए बनी।
  6. पारसी देवी: मौके पर पिट में 63197.5 टन खनन था। रिकॉर्ड में 54932.2 टन मिला। अंतर 8265.30 टन था। पेनल्टी बनी 19 लाख 1 हजार 19 रुपए।
  7. नैतिक जाणी: मौके पर पिट में 48705 टन खनन था। रिकॉर्ड में 56,007 टन मिला। अंतर करीब 7303 टन था। पेनल्टी 16 लाख 79 हजार 460 रुपए बनी।
  8. पारसी देवी: मौके पर पिट में 70550 टन खनन हुआ था। विभाग रिकॉर्ड में 40686 टन मिला। दोनों में अंतर 29864 टन। पेनल्टी 68 लाख 68 हजार 720 रुपए बनी।
  9. मैसर्स विश्नोई एब्रेसिव: मौके पर पिट में 30121.87 टन खनन था। रिकॉर्ड में 64008.3 टन अंकित था। अंतर 33886.43 टन था। पेनल्टी 77 लाख 93 हजार 879 रुपए बनी।
  10. मैसर्स महालक्ष्मी स्टोन क्रेशन: मौके पर पिट में 201582.81 टन खनन हुआ था। विभाग के रिकॉर्ड में केवल 28659.9 टन था। अंतर 172922.91 टन का था। पेनल्टी 3 करोड़ 97 लाख 72 हजार 270 रुपए बनी।
  11. सुखीदेवी: मौके पर पिट में 204531.25 टन खनन था। रिकॉर्ड में 61000 टन अंकित था। अंतर 143531.25 टन था। पेनल्टी 3 करोड़ 30 लाख 12 हजार 188 रुपए बनी।
  12. रामपाल: मौके पर पिट में 58543.75 टन खनन था। रिकॉर्ड में 17983.1 टन लिखा। अंतर 40560.65 टन था। पेनल्टी 93,28,950 रुपए बनी।
  13. राधेश्याम केला: मौके पर पिट में 282200 टन खनन था। रिकॉर्ड में 104829.1 टन था। अंतर 177370.90 टन। पेनल्टी 4,07,95,307 रुपए बनी।
  14. नितिन जाणी: मौके पर पिट में 157781.25 टन खनन था। रिकॉर्ड में 65674.5 टन लिखा था। अंतर 92106.75 था। पेनल्टी 2 करोड़ 11 लाख 84 हजार 553 रुपए बनी।
  15. 15 गणेश केला: मौके पर पिट में 219130 टन खनन था। रिकॉर्ड में 112724.7 टन लिखा। अंतर 106405.30 टन। पेनल्टी 2,44,73,219 रुपए बनी।

सेवकी के मामले में हमने 15 जनों को नोटिस दिए है, जिन्होंने ज्यादा खनन कर लिया है। अब इनकी वसूली की कार्रवाई शुरू हो चुकी है।
- धर्मेंद्र लोहार, वरिष्ठ अधीक्षण अभियंता, जोधपुर।

खबरें और भी हैं...