आसाराम एम्स के ICU में भर्ती:यूरिन इंफेक्शन के कारण 5 दिन से आ रहा बुखार, डॉक्टर रख रहे नजर

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आसाराम। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
आसाराम। (फाइल फोटो)

नाबालिग छात्रा का यौन उत्पीड़न करने वाले आसाराम की तबीयत एक बार फिर बिगड़ गई है। यूरिन इंफेक्शन के कारण 5 दिन से उसे बुखार आ रहा है। शनिवार को उसे जोधपुर एम्स में भर्ती कराया गया। फिलहाल वह आईसीयू में है। डॉक्टर लगातार निगरानी रखे हुए हैं।

जोधपुर जेल में बुखार आने पर उसका वहीं पर इलाज शुरू किया गया, लेकिन पांच दिन से बुखार नहीं टूटने पर एम्स लाया गया। एम्स में प्राथमिक जांच में सामने आया कि उसका यूरिन इंफेक्शन काफी बढ़ा हुआ है। डॉक्टरों का कहना है कि उसकी हालत स्थिर बनी हुई है। इंफेक्शन का असर कम होने के साथ बुखार भी उतरने की उम्मीद है।

दो महीने पहले भी भर्ती किया गया था

आसाराम को दो माह पूर्व भी एम्स में भर्ती कराया गया था। इसके बाद जांच के लिए तीन बार उसे एम्स लाया जा चुका है। अब उसे एक बार फिर भर्ती कराया गया है। अपना इलाज आयुर्वेद पद्धति से कराने के लिए आसाराम हाईकोर्ट व सुप्रीम कोर्ट से जमानत देने की गुहार लगा चुका है। एम्स के मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट में उसे स्वस्थ करार देने पर जमानत याचिका खारिज हो गई।

मरते दम तक जेल में रहने की सजा भुगत रहा
आसाराम के गुरुकुल में पढ़ने वाली एक नाबालिग छात्रा ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। उसने कहा था कि 15 अगस्त 2013 को आसाराम ने जोधपुर के निकट मणाई गांव में स्थित एक फार्म हाउस में उसका यौन उत्पीड़न किया। 20 अगस्त 2013 को उसने दिल्ली के कमला नगर थाने में आसाराम के खिलाफ मामला दर्ज कराया। जोधपुर का मामला होने के कारण दिल्ली पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर जांच करने के लिए उसे जोधपुर भेजा। जोधपुर पुलिस ने आसाराम के खिलाफ नाबालिग के यौन उत्पीड़न करने का मामला दर्ज किया। जोधपुर पुलिस 31 अगस्त 2013 को इन्दौर से आसाराम को गिरफ्तार कर जोधपुर ले आई। उसके बाद से आसाराम लगातार जोधपुर जेल में ही बंद है। अप्रैल 2018 में कोर्ट ने उसे इस मामले में दोषी करार देते हुए मरते दम तक जेल में रहने की सजा सुनाई थी। आसाराम की तरफ से अब तक करीब 15 बार जमानत हासिल करने की कोशिश की जा चुकी है, लेकिन किसी कोर्ट ने उसे जमानत नहीं प्रदान की।

खबरें और भी हैं...