पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राजस्थान हाईकोर्ट:जीएसटी घोटाले के मास्टर माइंड गौरव माहेश्वरी के माता-पिता व पत्नी कोरोना संक्रमित, मानवीय आधार पर 20 दिन के लिए मिली जमानत

जोधपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बोगस कंपनियां गठित कर करोड़ों रुपए का जीएसटी फ्राड करने वाले मास्टर माइंड गौरव माहेश्वरी को आज राजस्थान हाईकोर्ट ने अंतिरम जमानत प्रदान कर दी। हाईकोर्ट ने उसे बीस दिन के लिए मानवीय आधार पर जमानत दी है। गौरव के पिता कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में वेंटीलेटर पर है। जबकि उसकी मां व पत्नी संक्रमित होने के बाद घर में आइसोलेट है। मामले की अगली सुनवाई 5 जुलाई को होगी।

जोधपुर जेल में बंद गौरव माहेश्वरी की ओर से आज हाईकोर्ट में मानवीय आधार पर जमानत देने का आग्रह करते हुए याचिका दायर की गई थी। न्यायाधीश संदीप मेहता की कोर्ट में गौरव की तरफ से बताया गया कि कोरोना संक्रमित उसके पिता का एमडीएम अस्पताल में इलाज चल रहा है। वे वेंटिलेटर पर है। जबकि उसकी मां व पत्नी कोरोना संक्रमित होने के बाद घर में आइसोलेट है। ऐसे में परिवार में कोई ऐसा सदस्य नहीं है जो इन तीनों की सेवा कर सके। ऐसे में मानवीय पहलू को ध्यान में रखते हुए गौरव को अपने परिजनों की सेवा करने के लिए अंतरिम जमानत प्रदान की जाए। न्यायाधीश संदीप मेहता ने गौरव को बीस दिन की अंतिरम जमानत प्रदान कर दी। उन्होंने कहा कि बीस दिन पश्चात गौरव को वापस सरेंडर करना होगा।

उल्लेखनीय है कि गौरव ने दो दर्जन से अधिक बोहगस कंपनियां रजिस्टर्ड करवा कर उनके नाम से करीब सौ करोड़ रुपए के फर्जी बिल काटे। इसके आधार पर उसने करोड़ों रुपए का जीएसटी फ्राड किया। वह गत आठ माह से जोधपुर जेल में बंद है।

खबरें और भी हैं...