वनपाल परीक्षा:दो चरणों में हुई वनपाल परीक्षा में आधे अभ्यर्थी भी शामिल नहीं हुए

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पहले चरण में 43 व दूसरे में 45.58% ने परीक्षा दी

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की तरफ से वनपाल सीधी भर्ती परीक्षा रविवार को जिला मुख्यालय पर दो चरणों में आयोजित की गई। अतिरिक्त जिला कलेक्टर (शहर प्रथम) डॉ. भास्कर विश्नोई ने बताया कि 102 परीक्षा केंद्रों पर प्रथम चरण की परीक्षा प्रातः 10 से दोपहर 12 बजे तक एवं द्वितीय चरण की परीक्षा दोपहर 2:30 से 4:30 बजे तक आयोजित की गई।

डॉ विश्नोई ने बताया कि परीक्षा के प्रथम चरण में कुल 32230 अभ्यर्थियों में से 13860 (43.00 प्रतिशत) तथा द्वितीय चरण में कुल 32230 अभ्यर्थियों में से 14692 अभ्यर्थी (45.58 प्रतिशत) उपस्थित रहे।

परीक्षा के लिए कुल 21 सतर्कता दलों का गठन किया गया, जिसमें वरिष्ठ आरएएस अधिकारी को सतर्कता दल का प्रभारी एवं राजस्थान पुलिस सेवा अधिकारी, राजस्थान शिक्षा सेवा अधिकारी को सतर्कता दल का सदस्य बनाया गया। पेपर वितरण के लिए 21 उपसमन्वयक नियुक्त किए गए।

रोडवेज ने चलाई 20 अतिरिक्त बसें
आरपीएससी की ओर से रविवार को आयोजित हुई वनपाल सीधी भर्ती परीक्षा को लेकर रोडवेज ने परीक्षार्थियों की सुविधा के लिए तीन जगह अस्थाई बस स्टैंड लगाए। रोडवेज बस स्टैंड पर परीक्षार्थियों की भी खासी भीड़ नजर आई। रोडवेज के मुख्य प्रबंधक ने बताया कि रोडवेज की तरफ से परीक्षार्थियों के लिए 20 अतिरिक्त बसें चलाई गई। पाली रोड भगत की कोठी स्थित पीली टंकी अस्थाई बस स्टैंड से पाली-उदयपुर-सिरोही-आबूरोड मार्ग और जालोर-भीनमाल-सांचौर मार्ग के लिए बसें संचालित हुई।

मंडोर स्थित कृषि मंडी पर भी अस्थाई बस स्टैंड बनाया गया। जहां से नागौर-बीकानेर-गंगानगर मार्ग और सीकर-चूरू-झुंझुनूं-हनुमानगढ़ मार्ग के लिए बसें संचालित हुई। इसी तरह रावण का चबूतरा 12वीं रोड पर भी अस्थाई बस स्टैंड से परीक्षार्थी परीक्षा देकर वापस घर लौटे। यहीं से बालोतरा-बाड़मेर-सांचौर-अहमदाबाद और शेरगढ़-रामदेवरा-जैसलमेर मार्ग के लिए बसें संचालित हुई।

खबरें और भी हैं...