जोधपुर में बढ़ती रिश्वतखोरी:सबसे ज्यादा 17 घूसखोरी रेवेन्यू विभाग में, 12 घूसखोरी के साथ पुलिस भी पीछे नहीं, 1 साल में 83 कार्रवाई

जोधपुर16 दिन पहलेलेखक: सुमित व्यास
  • कॉपी लिंक
एसीबी की ओर से 2021 में की कार्रवाइयों में अफसर भी पकड़े गए थे। - Dainik Bhaskar
एसीबी की ओर से 2021 में की कार्रवाइयों में अफसर भी पकड़े गए थे।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने प्रदेश में साल 2021 में एक के बाद एक, ताबड़तोड़ 400 कार्रवाई की। इसमें जोधपुर रेंज ने भी रिकॉर्ड बनाते हुए कुल 83 कार्रवाई की। दो सालों की तुलना में इस साल जोधपुर रेंज में डेढ़ गुना कार्रवाईयां हुईं।

प्रशासन के रेवेन्यू विभाग में 17 कार्रवाईयां की गईं। कई बड़े अधिकारियों को ट्रेप किया गया। जोधपुर रेंज में हुए 83 कार्रवाई में 71 तो ट्रेप ही हो गए। जिनमें प्रशासन के रेवेन्यू विभाग के 17, पुलिस महकमे के 12, पंचायती राज विभाग और डिस्कॉम व जेवीएनएल के 8-8 एवं आरटीओ व नगर निगम के 3-3 ट्रेप शामिल हैं।

एसीबी के उप महानिरीक्षक कैलाशचंद्र विश्नोई ने बताया कि जैसे-जैसे शिकायतें परिवादियों से मिलीं, उसी के आधार पर कार्रवाई की गई। साल 2019 की ट्रेप संख्या 57 व 2020 में 49 लोगों के ट्रेप की तुलना करें तो इस साल अधिक कार्रवाई हुई हैं। कुल 83 में से 60 में चालान पेश कर दिया गया। वहीं 4 कार्रवाई आय से अधिक मामलों की हुई।

राजस्थान में भ्रष्टाचार पर एसीबी के आंकड़ों का एनालिसिस- जोधपुर डिविजन में 2021 में बड़े-बड़े अफसर भी पकड़ाए
2021 में एसीबी की 5 बड़ी कार्रवाई रंगे हाथ से लेकर रकम जलाते तक पकड़े
जोधपुर में आरएएस परीक्षा 2018 के साक्षात्कार में अधिक अंक दिलवाकर सलेक्शन करवाने की एवज में 20 लाख रुपए के लेनदेन के संबंध में राजकीय स्कूल के प्रिंसिपल सहित तीन लोग पकड़े गए। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भोपालसिंह लखावत ने बताया कि 28 जुलाई को टीम द्वारा कल्याणपुर जिला बाड़मेर की राजकीय स्कूल पनावड़ा में चेकिंग की गई।

प्रिंसिपल जोगाराम, मदर टेरेसा सीनियर सैंकडरी स्कूल के संचालक ठाकरराम और बासनी तंबोलिया निवासी किशनाराम 20 लाख रुपयों के साथ पकड़ा।
सिरोही तहसीलदार कल्पेश कुमार द्वारा पर्वतसिंह राजस्व निरीक्षक वृत भांवरी, पिंडवाड़ा के मार्फत एक लाख रुपए की रिश्वत की मांग कर रहा था। रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा। 24 मार्च को जब एसीबी की टीम तहसीलदार कल्पेश कुमार के सरकारी आवास पिंडवाड़ा पहुंची तो उसे भनक लग गई। उसने मैनगेट का दरवाजा भीतर से बंद कर लिया। इस पर स्थानीय पुलिस को बुला दरवाजा खुलवाया गया। तब रसोई के चूल्हे पर नोट जल रहे थे।

जालोर के आहोर के उपखंड अधिकारी (आरएएस) मासिंगा राम को 40 हजार रुपयों की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा। एसीबी उप महानिरीक्षक कैलाशचंद्र विश्नोई ने बताया कि 1 नवंबर को फोतगी म्यूटेशन की अपील का आदेश जारी करने की एवज में 40 हजार रुपयों की रिश्वत मांगी गई थी। सुनील कुमार चौधरी, उपखंड अधिकारी गुडामालानी, बाड़मेर व उसके वाहन चालक दुर्गाराम को दस हजार रुपयों की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (स्पेशल यूनिट) दुर्गसिंह राजपुरोहित ने बताया कि खसरा संख्या 11 में अस्थाई निषेधाज्ञा देने की एवज में एसडीएम सुनील कुमार चौधरी ने दस हजार की रिश्वत मांगी थी। जिन्हें ट्र‌ेप किया गया। पाली जिले के मारवाड़ जंक्शन एसएचओ को 25 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा। गिरफ्तारी वारंट निकलने के बाद भी गिरफ्तार नहीं करने की एवज में एसएचओ गिरधरसिंह ने रिश्वत ली थी।

खबरें और भी हैं...