विवाहिता की संदिग्ध हालात में मौत:ससुराल पक्ष ने टांके में डूबना बताया, पिता ने दहेज हत्या का आरोप लगाया;आठ माह पहले हुई थी शादी

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
13 दिसंबर को चौहाबो थाने में दहेज हत्या का केस दर्ज कराया। - Dainik Bhaskar
13 दिसंबर को चौहाबो थाने में दहेज हत्या का केस दर्ज कराया।

बाड़मेर के एक गांव से पति के साथ जोधपुर घूमने आई महिला की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। उसकी टांके में डूबने से मौत होना बताया गया है। वहीं पिता ने दहेज हत्या का आरोप लगाते हुए चौहाबो थाने में मामला दर्ज करवाया है। दरअसल आठ महीने पहले शादी करने वाली महिला को उसका पति जोधपुर घुमाने लाया, दिनभर उसे घुमाया और रात को अपने चाचा के घर शोभावतों की ढाणी में लेकर गया। बाद में पता लगा कि महिला की मौत हो गई है। ससुराल वाले बिना पोस्टमार्टम करवाए शव लेकर चले गए। पुलिस में मामला दर्ज होने पर शव को आगे कार्रवाई के लिए एमडीएम अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया। पुलिस ने प्रथम दृष्टया मामला संदिग्ध माना है। युवती से सामूहिक दुष्कर्म की आशंका जताई है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि बाड़मेर के एक गांव की रहने वाली 22 साल की युवती की शादी सराणा गांव निवासी मेघसिंह राजपुरोहित के साथ आठ माह पहले हुई थी। पिता द्वारा दी गई रिपोर्ट में आरोप है कि उसकी पुत्री को उसका जवाई मेघसिंह 11 दिसंबर को घुमाने के बहाने जोधपुर ले गया था। रात 11 बजे उसकी पुत्री से बातचीत हुई थी, लेकिन अगले दिन 12 दिसंबर को युवती के चाचा ने फोन पर जानकारी दी कि उसकी पुत्री का निधन हो गया है।

उस समय युवती के पिता गुजरात में थे। तब उन्होंने पुत्री के ससुराल वालों से बात करने का प्रयास किया, मगर उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। उसकी पुत्री की मौत जोधपुर के शोभावतों की ढाणी स्थित मेघसिंह के चाचा के घर टांके में डूबने से होना बताया, ससुराल वाले शव को गुपचुप तरीके से बाड़मेर लेकर चले गए। पिता का आरोप है कि शादी के बाद से ही जंवाई मेघसिंह उनकी पुत्री को पसंद नहीं करता था।

इधर, पिता रात एक बजे बाड़मेर में पुत्री के ससुराल पहुंचे और मामला संदिग्ध लगने पर पुलिस को सूचना दी। 13 दिसंबर को चौहाबो थाने में दहेज हत्या का केस दर्ज कराया। रिपोर्ट के अनुसार उनकी पुत्री 11 दिसंबर को जोधपुर में जंवाई मेघसिंह के चाचा के मकान पर थी। वहां पर पहले से ही मूलाराम मेघवाल, गोरधनराम व तीन-चार अन्य लोग भी थे।

खबरें और भी हैं...