बंद रही मंडोर मंडी:चाय पत्ती पर टैक्स लगाने के विरोध में सभी व्यापारियों ने बंद रखे अपने प्रतिष्ठान

जोधपुर2 महीने पहले

चाय पत्ती के कारोबारियों पर मंडी टैक्स और किसान कल्याण टैक्स लगाने के विरोध में आंदोलन कर रहे चाय पत्ती व्यापारियों के समर्थन में आज मंडोर मंडी बंद रही। अन्य सभी जिंस के कारोबारियों ने चाय पत्ती व्यापारियों के समर्थन में अपना कारोबार बंद रखा। मंडी के सभी प्रतिष्ठान बंद रहने से सन्नाटा पसरा रहा।

चाय पत्ती के कारोबारियों पर मंडी टैक्स और किसान कल्याण टैक्स नहीं लगता था। सरकार की ओर से 28 अप्रैल को आदेश जारी कर चाय पत्ती पर भी यह टैक्स जोड़ दिया गया है। सरकार मंडी में व्यापार करने वालों से तो टैक्स ले रही है। लेकिन वो ही सामग्री मंडी के बाहर बेचने वालों से कोई टैक्स वसूला नहीं जा रहा है। इसीलिए बीते पांच दिनों से चाय पत्ती व्यापारी हड़ताल पर है और व्यापार बंद कर के बैठे हैं।

अब इन्हीं व्यापारियों के समर्थन में मंडोर मंडी खाद्य व्यापार संघ ने एक दिन का बंद रखने का निर्णय लिया था। मंडी में चाय पत्ती की करीब 50 दुकानें हैं, जो हर दिन करोड़ों रुपए का नुकसान झेल रही है। चाय पत्ती कारोबारी पदमचंद मूथा, मंडोर मंडी खाद्य पदार्थ व्यापार संघ सचिव धर्मेंद्र भंडारी ने बताया कि सरकार का यह निर्णय उचित नहीं है, उसे यह निर्णय वापस लेना चाहिए। मंडी में एक दिन कारोबार ठप रहने से करोड़ों रुपए का व्यापार प्रभावित हुआ।